WITR PADHNE KA NABAWI TARIKA

WITR PADHNE KA NABAWI TARIKA

Bismillahirrahmanirraheem
Contents:
  1. WITR KA WAQT
  2. WITR KYA SHURU KE WAQT ME PADHA JAYE YA AKHIR KE WAQT ME
  3. WITR KI NIYAT
  4. WITR KI RAKAT
  5. TEEN RAKAT WITR PADHNE KA TAREEKA
  6. PAANCH YA SAAT RAKAT WITR
  7. NAU (9) RAKAT WITR
  8. GYARA RAKAT WITR
  9. WITR KO MAGRIB KI TARHA NA BANANA
  10. Dua e Qunut
  11. DUA E QUNOOT RUKU SE PAHLE YA RUKU KE BAAD ME?
  12. RUKU KE BAAD WALI RIWAYAATE
  13. KYA DUA E QUNUT ME HATH UTHAYA JAYE ?
Witr ki namaz ek baehtreen ibadat hai jisse Allah ka qurb hasil hota hai. Ulemao maise kuch (Hanafi) ne ye kaha ki ye namaz fard hai lekin Sahih ahkaam yahi hai ki Ye Sunnat e mu’akkadah hai.

(1). WITR KA WAQT:

Shaykh Muhammad Salih Al Munajjid farmate hai

Witr ki namaz ka shuru ka waqt tab hota hai jab ek shaks Isha padh chuka hota hai agarche isha ko magrib ke sath hi kyu na padha gaya ho magrib ke waqt. Aur is namaz ka khatm hone ka waqt fajr se pahle hai.

RasoolAllah ne farmaya

Allah ne tumpar ek namaz Mukarrar ki hai jo Witr hai; Allah ne tumpar ye namaz Isha ki namaz aur Fajr ki shuruat ke bich mukarrar ki hai.

( Al-Tirmidhi, 425 ) Al-Albaani in Saheeh al-Tirmidhi.

(2). WITR KYA SHURU KE WAQT ME PADHA JAYE YA AKHIR KE WAQT ME:

Nabi ne farmaya

Jo shaks aakhir raat me na uth sake toh wo shuru raat me witr padh le aur jo aakhir raat me uth sake wo aakhir raat witr padhe kyuki aakhri raat ki namaz behtreen hai.

(Sahih Muslim, hadith-755)

(3). WITR KI NIYAT:

Rasool ne farmaya

Tamaam Amal ka daromadar niyat pe hai
( Sahih Al Bukhari, Hadith-1 )

Wazahat: Kisi bhi Namaz ke liye niyat karna zaruri hai lekin Namaz ki Niyat dil se na ke Zuban se ki jati hai.

(4). WITR KI RAKAT:

Rasool ne farmaya

Witr har musalman ka haq hai. To jo shaks paanch rakat witr padhna chahe to wo (paanch) rakat padhe aur jo teen rakat witr padhna chahe to (teen rakat) padhe aur jo koi ek rakat witr padhna chahe to (ek rakat witr) padhe.

(Sunan Abu Daud, Hadith-1422,) Sahih (Al-Albani).
NOTE: Rasool ne farmaya “Witr, Aakhir raat me ek rakat hai”
(Sahih Muslim, Hadith-752)

(5). TEEN RAKAT WITR PADHNE KA TAREEKA

Teen rakat witr padhne ke do (2) tarike hai:

Pahla Tarika:
Ek ye hai ki Teen rakat ke witr me kisi rakat me na baithe siwae aakhri rakat me. Iska matlab dusre rakat me tashahudd ke liye bina baithe hi uth jana hai ya aesa kah sakte hai ki dusri rakat ke sajde ke baad hi uth jana hai.
Hazrat Ayesha r.a. farmati hai

RasoolAllah teen rakat witr padhte the aur wo aakhri rakat ke alawa kisi rakat me nahi baithte the.

(Al-Nasaa’i, 3/234) (Al-Bayhaqi, 3/31)
Al-Nawawi said it was narrated by al-Nasaa’i with a hasan isnaad, and by al-Bayhaqi with a saheeh isnaad.
(Al-Majmoo’ - 4/7)

Dusra Tarika
Dusra tarika ye hai ki 2 rakat padh kar salaam fere hai aur fir ek rakat alag se padhna ha.

Ibn Umar r.a. riwayat karte hai ki wo do rakat ko ek rakat se Tasleem (Salaam) ke sath alag kiya karte the, aur wo farmate hai ki aesa RasoolAllah kiya karte the.
(Ibn Hibbaan - 2435)
(Ibn Hajar said in Al-Fath - 2/482): its isnaad is quitly (strong).

(6). PAANCH YA SAAT RAKAT WITR

Lekin agar koi panch ya saat rakat witr padhe to wo musalsal honi chaiye aur sirf akhri rakat me Tashahudd padhe aur fir Tasleem (salaam) kahe. Kyuki:
Hazrat Ayesha r.a. riwayat karti hai

RasoolAllah raat ko terah (13) rakat padha karte the jisme wo paanch rakat witr padhte the jisme wo akhri rakat ke alawa kisi rakat me na baithte the.

( Muslim, 737 )
Umm Salamah r.a. riwayat karti hai

RasoolAllah panch ya sath rakat witr padhte the aur wo uske bich koi salam ya alfaz se alag nahi karte the.

(Ahmad, 6/290)
(Al-Nasaa’i, 1714)
al-Nawawi said: Its isnaad is jayyid. Al-Fath al-Rabbaani, 2/297. and it was classed as saheeh by al-Albaani in Saheeh al-Nasaa’i.

(7). NAU (9) RAKAT WITR

Agar wo nau (9) rakat witr padhna chahe to kisi bhi rakat me na baith siwae aathwe rakat me. Aantwe rakat me baith kar sirf tashahud kahe aur salaam na kahe aur fir wo khada ho jaye. Fir 9 rakat me tashahud aur salaam dono padh kar namaz khatm kare.

(8). GYARA RAKAT WITR

Agar wo 11 rakat witr padhna chahe to har 2 rakat me salaam fere aur fir akhir me 1 rakat padhe.

(9). WITR KO MAGRIB KI TARHA NA BANANA

RasoolAllah ne farmaya ki

Witr ko teen rakat magrib ke tarha na banao.

(Al-Haakim, 1/403)
(Al-Bayhaqi, 3/31)
(Al-Daaraqutni, P.172)
Al-Haafiz ibn Hajar said in Fath al-Baari (4/301): Its isnaad fulfils the conditions of the two Shaykhs (Al-Bukhaari and Muslim).

Aur is hadith ka jawab dusri hadith deti hai ki witr ko kaise magrib ke tarha na banaya jaye.
Hazrat Ayesha r.a. farmati hai ki

RasoolAllah teen rakat witr padhte the aur wo aakhri rakat ke alawa kisi rakat me nahi baithte the.

(Al-Nasaa’i, 3/234)
(Al-Bayhaqi, 3/31)
Al-Nawawi said in al-Majmoo’ (4/7): it was narrated by al-Nasaa’i with a hasan isnaad, and by al-Bayhaqi with a saheeh isnaad.
Is hadith se pata chala ki Witr ko kaise magrib ke tarha na banaya jaye jisse RasoolAllah ne mana farmaya hai.

(10). Dua e Qunut

Allaahumma ihdini feeman hadayta wa ‘aafini feeman ‘aafayta wa tawallani feeman tawallayta wa baarik li feema a’tayta, wa qini sharra ma qadayta , fa innaka taqdi wa la yuqda ‘alayk, wa innahu laa yadhillu man waalayta [wa laa ya’izzu man ‘aadayta,] tabaarakta Rabbana wa ta’aalayta.
(Abu Dawood, 1213)
(Al-Nasaa’i, 1725)
(Al-Albaani in Al-Irwa’, 429)-Sahih
See Image : Qunoot-e-Nazila (1)

Tarjuma: Ya Allah! Mujhe Hidaayat Dekar In Logo’n Mein Shamil Farma Jinhei’n Tune Rushd o Hidaayat Se Nawaaza Hai Aur Mujhe Aafiyat Dekar In Logo’n Mein Shamil Farma Jinhei’n Tune Afiyat Baqhshee Hai Aur Jin Logo’n Ko Tune Apna Dost Banaaya Hai In Mein Mujhe Bhi Shamil Karke Apna Dost Banaale. Jo Kuch Tune Mujhe Ataa Farmaya Hai Is Mein Mere Liey Barkat Daal de aur Jis Sharr o Buraai Ka Tune Faisla Farmaya Hai Is se Mujhe Mehfooz Rakh Aur Bachaale.
Yaqeenan Tuhi Faisla Saadir Farmata Hai Tere Khilaaf Faisla Saadir Nahi Kiya Jaasakta Aur Jiska Tu Dost Banaa Wo Kabhi Zaleel o Khuwaar Aur Ruswa Nahi Ho Sakta Aur Wo Shaqs Izzat Nahi Paasakta Jise Tu Dushman Kahe, Aey Hamaare Rab! Tu (Badaa) Hi Barkat Waala Aur Buland o Baala Hai’. Jo Brackets me dua hai [wa laa ya’izzu man ‘aadayta,] wo Sunan Abu Daud ki sahih hadith me hai lekin Ye Alfaz Sunan Nisai ki Sahih hadith me nahi hai. Toh Isliye jo dua ke izafi alfaz hai wo padh bhi sakte hai aur nahi bhi, Dono Tarike Sahih hai.

(11). DUA E QUNOOT RUKU SE PAHLE YA RUKU KE BAAD ME?

Is mualmle me ulemao me ikhtilaf hai. Lekin aksar ulemao ka ye kahna hai ki Dua e qunoot ruku se pahle aur ruku ke baad dono kar sakte hai aur dono ki ijazat hai. Lekin behtar Raae ye hai ki dua e Qunoot ruku se pahle kiya jaye. Ye isliye kyuki koi bhi sahih/hasan riwayat nahi hai jaha RasoolAllah ya sahaba duae qunoot e witr me Ruku ke baad qunoot padha karte the. Balki sahabao se ye sabit hai ki wo ruku se pahle qunoot e witr padha karte the:
Asim Ahwal riwayat karte hai ki
☛Maine Anas bin Malik se Qunut ke bareme pucha.
☞Anas r.a. ne jawab diya, “Bilkul (ye padha jata tha)”.
☛Maine pucha ki ruku se pahle ya ruku ke baad?
☞Anas r.a. ne jawab diya: ‘Ruku se pahle’.
☛Maine kaha Fula ne kaha hai ki apne unse bataya hai ki ruku ke baad hai.
☞Anas r.a. ne farmaya, ‘Usne Jhut [Hijazi dialect ke mutabik use galti lagi] kaha’.
Allah ke Rasool ne Qunut ruku ke baad ek mahine ke liye padha tha.
☞Anas r.a. Farmate hai jab Mushreken ne 70 Sahaba karam ko Qatal kar deya tou ”Nabi ne Ek Ma’ah (30 day) Qunut Farmaye jisme Aap un (ke Qatal Musreko) per Bad-dua karte Rahe”.
Sahih Bukhari, Vol :2, B:16, No.116,
Abu Awaanah (2/285),
Daarimee (1/374),
Sharh Ma’anee al-Aathaar of Tahaawee (1/143),
Sunan al-Kubraa (2/207) of Baihaqee and Musnad Ahmad (3/167.)

Ubayy Ibn Ka’ab RadhiAllaahu Anhu farmate hai ki
RasoolAllah Teen witr padhte aur Dua e Qunoot ruku se pahle padhte the.
Ibn Maajah (no.1182)
Sunan an-Nasaa’ee (3/235 no.1700)
Sunan Daarqutnee (2/31 no.1644)
Dhiya Maqdisee has also transmitted this in Al-Mukhtarah Imaam al-Albaanee authenticated it refer to
Saheeh Ibn Maajah (No.970) and
Irwaa ul-Ghaleel (no.462)
Musannaf Ibn Abi Shaybah me bhi ye riwayat darj hai ke Hazrat Abdullah bin Masood aur sahaba kiraam r.a. Qunut e witr ruku se pahle padhte the.
Ibn Abi Shayba, Ise Ibn e Turkmani aur Hafiz ibn Hajar ne hasan kaha hai.

(12). RUKU KE BAAD WALI RIWAYAATE

Witr me Ruku ke baad Qunut ki tamam riwayat zaif hai aur jo riwayat sahih hai unme ye wazeh nahi hai ki Aap ka ruku ke
baad wala Qunut, Qunut witr tha ya Qunut e Nazila. Isliye Witr me qunut ruku se pahle padha jana chahiye. Allaama Ibn Hajar r.h. Sahih al Bukhari ki tafseer Fath al-Bari me kahte hai, Ye saare riwayato ko Tajzeeh karne ke baad hame ye pata chalta hai ki ye ek aam mamool tha ki dua e qunut witr se pahle padha jata tha. Taaham kisi khas surat me (jaise musibat ke waqt) qunut ruku se baad padha jata tha.
[Ref: Fath ul Bahri vol. 1, pg. 291].

(12). KYA DUA E QUNUT ME HATH UTHAYA JAYE

Dua e Qunoot witr mein hath uthane ke bare mein koi marfoo riwayat nahi hai lekin Hadiths ke kitabo me Baaz Sahaaba Ikraam r.a. ke asaar milte hain. Islamic shariah me jab koi baat RasoolAllah se na mile aur sahaba se wo amal mil jaye bina kisi dusre sahaba ka aetraz kiya to us amal ko apnane me koi harj nahi. Ibn Masood kahte hai ki wo Witr me apne hath uthate the aur us ke baad use niche kar lete the.
Abdur Razzaq (4/325), Sanad Hasan.
Qunut me hath uthana Umar r.a. se bhi sabit hai.
Al-Bayhaqi in a report which he classed as saheeh (2/210).
Allah hame Kasrat se Witr ada karne ki taufeek ata farmaye. aameen.
#Faisal Khan
Iqrakitab.wordpress.com

Namaz ki Niyyat dil se na ke Zaban se

Aap (ﷺ) farmate hain:
Aamal ka daromadar Niyat par hai.
[Sahi Bukhari 5070]

Namaz me Niyyat karna zaruri hai isliye ke Namazi ko malum rahe ke wo kOnsi Namaz padh raha hai. Namaz e Zohar ya Asar aur kOnsi rakat farz ya Sunnah.

Lekin Aksar lOg Niyyat ke Alfaz zaban se ada karte hain jaise “Iss Imam ke pichhe me Namaz padh raha hun,itni rakat sunnat ya farz,falan Namaz ki.Munh mera kaabe tarf wagera.”

ye tariqa durust nahi hai kiyuke
Niyyat karna Dil ke Irade ke naam hai.
[Kitab ul Fiqah.ali ul mazahib ul arbah:209/1 w sharah w qayah wagera]

Isi ke sath aksar Ulma ne zaban ke sath Niyyat karne ko Bidat shumar kiya hai,kiyuke Nabi (ﷺ) aur Sahaba Ikram se iska kOi subut nahi hai.

Allama Ibne Tahmiya(RahimUllah) farmate hain:
“Zaban se Niyyat karna Deen aur aqal dono ke khilaf hai, Deen ke khilaf isliye ke ye Bidat hai aur aqal ke khilaf isliye ke iski missal aise hi hai jaise kOi khana tanawul karna chahta ho to kahe: “Main Niyyat karta hun apne hath ko iss bartan me rakhne ki,isme se luqma lunga phir isko munh me rakhunga,phir isko chabaunga,akhir isko nigal lunga take main ser hosakun.”

kOi aqalmand iss qism ki harkat nahi karega kiyuke jab aadmi ko ilm hai ke wO kya kar rha hai to usne uss baat ki Niyyat bhi zarur ki hogi.

Aur charo Imamo ka iss baat per ittefaq hai ke zaban se Niyyat krna mashru nahi.”
[fatawa Ibne Tahmiya 232/1]

Imam Ibne Qaim(RahimUllah) farmate hain:
“Nabi (ﷺ) jab Namaz ke liye khade hOte to ALLAHU AKBAR kahte aur isse pahle kuch na kahte aur na inn marwajah alfaz ke sath Namaz ki Niyyat karte the.

Kisi ne iske muttaliq ba sanad kOi chiz naqal nahi ki,hatta ke kisi zaeef wa Mursal riwayat me bhi inme se ek lafz bhi marwi nahi hai,balke Sahabi se bhi ye alfaz sabit nahi aur nahi Taba’een aur charO Imamo me se kisi ne zaban ke sath Niyyat karne ko Mustahsin qarar diya hai.
[Zaad ul ma’ad ul Ibne Qaim:201]

Allama Muhammad Nasir Uddin Albani(R.U.) farmate hain:
“Nabi (ﷺ) apni Namaz ko Takbeer Tahrima se shuru karte the.”
[see: Sahi Muslim-1110]

Iss Hadees me iss baat ki tarf ishara hai ke Aap (ﷺ) “Niyyat karta hun waste Namaz ke wagera” alfaz se Namaz shuru nahi karte the,lehaza ye bil ittefaq Bidat hai,Baaz ne Hasnah aur Saiyyah ka farq bayan kiya hai.

Lekin hum kahte hain ke Ibadat ke mamle me har Bidat Gumrahi hai.kiyuke Nabi (ﷺ) ka irshad hai ke: “( كل بدعة ضلالة وكل ضلالة في النار ) “-kullu bid’atin dalalatun wa-kullu dalalatin fi’l-nari-“ iss baat ka taqaza karta hai.”

[Safat ul Salat ul Nabi(S.A.W),page-76] Iss Hadees ke mayeni ye hain ke “Har Bidat Gumrahi hai aur Gumrahi Dozakh me lejane wali hai.” [Sanan Nisai]Niyyat chuki Dil se talluq rakhti hai,isliye zaruri hai ki ham apne tamaan(jayez) kamon me(sabse) pahle niyyat kar liya karen kyonki jaisi niyat hogi waisa hi phal milega.In shaa ALLAHH

ALLAH SW Hume shirk wa Bidat se mahfuz farmaye aur Sunnato per sahi tariqe se Amal karne ki toufiq ata farmaye.Ameen

Post: #A.Sayed

तावीज़ गन्डे की हकीकत

TAVEEZ KI HAQIKAT

तावीज़ गन्डे की हकीकत

आज हमारे समाज मे दीन धर्म के नाम पर जो गोरखधंधे हो रहे हैं उसे ने आम इन्सान को फ़िक्र हैं न इस हुकुमत के ज़िम्मेदारो को खुसुसी मुस्लिम समाज मे आज कुरान और हदीस की तालीम खत्म हो रही हैं| बिदअत को बढ़ावा दिया जा रहा हैं और सुन्नत को झुठलाया जा रहा हैं| अल्लाह का डर खौफ़ दिल और दिमाग से लोगो के निकल रहा हैं बुराई को आम कर घर-घर मे दाखिल किया जा रहा हैं| लोगो को शिफ़ा के नाम पर ताविज़ और गन्डे को आम किया जा रहा हैं| तावीज़ गन्डे और झाड़-फ़ूंक का ये शिर्किया अमल एक ऐसा रोग हैं के ये जिस समाज मे फ़ैल जाये वो समाज तौहीद(एकेशवरवाद) की तालीम को भूल कर खुल्लम-खुल्ला शिर्क करने लगता हैं और उसे अहसास तक नही होता के वो खुद अपने आप को जहन्नम (नर्क) मे ढकेल रहा हैं| अफ़सोस की बात तो ये के लोग इसे बड़ी खुशी से करते हैं और मीलो का सफ़र भी तय करते हैं|

दरहकीकत ऐसे लोग ताविज़ गन्डे का शिर्क करके तौहीद को चुनौती देते हैं के इस कायनात के पालनहार अल्लाह के मर्ज़ी के बिना भी वो लोगो को बीमारी मे शिफ़ा दे सकते या उनकी तकदीर बदल सकते हैं| मुस्लिम समाज के ये बदअकीदा उल्मा और शिर्क के कारोबार से पेट पालने वाले ये बाबा और मुल्लाओ ने तावीज़ और गन्डे के शिर्किया कारोबार से बिदअत और बुराईयो का बाज़ार गर्मा रखा है| इसके ज़रिये वो न सिर्फ़ अल्लाह पर भरोसे का लोगो से ऐतमाद खत्म कर रहे बल्कि ये उनकी रोज़ी का ज़रिया बना हैं| भोली भाली आवाम अपने दुख-दर्द मे मुब्तला अपनी बदहाली को दूर करने की गर्ज़ से इनके पास जाती हैं और ये जाहिल तावीज़ गन्डे वाले इनसे मन चाही रकम वसूलते हैं| और तो और मुसीबत की मारी आवाम इन धोकेबाज़ो को अपनी परेशानी का मसीहा समझ इनके बहकावे मे आकर अपनी रकम के साथ-साथ अपना ईमान भी गवां देती हैं|

आज आम तौर से लोगो का ये गुमान हैं के तमाम बीमारी, परेशानी का हाल सिर्फ़ तावीज़ और गन्डा हैं और इसके करने वाले ही उन्हे इस परेशानी से निजात दिला सकते हैं| बीमारी चाहे दिमागी हो या जिस्मानी अगर वो किसी डाकटर के इलाज से सही न हो तो लोग उसका हल सिर्फ़ झाड़-फ़ूंक और तावीज़ गन्डे मे तलाशते है| परेशानी चाहे अहलो अयाल की हो या रिश्तेदार की या कारोबारी आज लोगो का अकीदे मे ये शामिल होता जा रहा हैं की उनकी मुश्कीलात का हल झाड़-फ़ूंक करने वाले ही दूर कर सकते हैं| जबकी

अल्लाह कुरान मे फ़रमाता हैं –

कहो भला बताओ तो सही अगर अल्लाह मुझे कोई तकलीफ़ पहुंचाना चाहे तो जिनको तुम अल्लाह के सिवा पुकारते हो क्या वो उसकी(अल्लाह) भेजी हुई परेशानी को दूर कर सकते हैं|

(सूरह ज़ुमर 39/38)

ये आयत उन तमाम लोगो के लिये एक चैलेंज हैं जो झाड़-फ़ूंक, तावीज़-गन्डे करते और कराते है उनको अल्लाह की तरफ़ से एक करारा जवाब हैं के अल्लाह के सिवा कोई परेशानी से निजात नही दे सकता चाहे वो किसी भी तरह की हो|

हज़रत उकबा बिन आमिर रज़ि0 से रिवायत हैं कि –

नबी ने फ़रमाया –

जो तावीज़ लटकाये अल्लाह उसकी मुराद न पूरी करे और जो कौड़ी लटकाये अल्लाह उसको सुख और आराम न दे|

(हाकिम)
इसके अलावा मुसनद अहमद की एक और रिवायत हैं के –

जिसने ताविज़ लटकाया उसने शिर्क किया|

(अहमद)

उर्दू मे तावीज़ उसे कहते हैं जो बांधा या लटकाया जाये ताकि बीमारी व आसेबी और बुरी नज़र से बचा रहे या खैर और बरकत को हासिल करना होता हैं अरबी मे इसे तमीमा कहते हैं| इसके अलावा अरबी मे तावीज़ या तअव्वुज़ का मतलब पनाह चाहना होता हैं| कुरान और हदीस मे तावीज़ के जो मायने आये हैं इसका मतलब पनाह चाहने के हैं|

हज़रत अबू बशीर अन्सारी रज़ि से रिवायत हैं के वो एक सफ़र मे नबी के साथ थे|

आपने एक शख्स को ये हुक्म देकर भेजा –

किसी ऊंट की गर्दन मे तांत का पट्टा या किसी और चीज़ का पट्टा न बाकी रखा जाये बल्कि उसे काट दिया जाये|

(बुखारी व मुस्लिम)

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद रज़ि0 से रिवायत हैं के

नबी ने फ़रमाया –

यकीनन ही झाड़ -फ़ूंक और तावीज़ गन्डा शिर्क हैं|

(अहमद, अबू दाऊद)

हज़रत रवैफ़अ बिन साबित रज़ि0 से रिवायत हैं के

नबी ने फ़रमाया –

ऐ रवैफ़अ! शायद तुम्हारी उम्र लम्बी हो तो तुम लोगो को ये खबर दे देना जो दाढ़ी मे गिरह लगाये या तांत लटकाये या लीद या हड्डी से इस्तनिजा करे उससे नबी बरी हैं|

(निसाई)

इन हदीसो से साबित हैं के तावीज़ चाहे किसी भी तरह का हो उसमे कुरान की आयते हो या न हो उसका लटकाना सरासर हराम और शिर्क हैं| इसके अलावा तावीज़ गन्डे को लटकाने के लिये नबी की तरफ़ से आम मनाही हैं लिहाज़ा इसके शिर्क और हराम होने मे शक की कोई गुन्जाइश नही|

कुछ लोगो का ये गुमान हैं के कुरान की आयतो को लिख कर गले मे बतौर तावीज़ लटकाया जा सकता हैं तो उनको ये पता होना चाहिये की अव्वल तो नबी ने तावीज़ लटकाने की आम मनाही की हैं अगर कुरान की आयतो को बतौर तावीज़ लटकाना जायज़ होता तो आप (ﷺ) इसका ज़िक्र सहाबा से ज़रूर करते लेकिन अल्लाह के रसूल (ﷺ) की ज़िन्दगी मे ऐसा कभी न कहा के कुरान की आयतो को गले मे तावीज़ बना कर शिफ़ा हासिल करने के लिये लटका लो| दूसरे अमूमन इन्सान कभी नापाकी मे कभी बिना वुज़ु कभी बिना गुस्ल के होता हैं ऐसी सूरत मे कुरान को अगर तावीज़ के तौर पर गले मे लटका लिया जाये तो सिर्फ़ कुरान की बेहुरमती होगी इसके अलावा इस कुरानी तावीज़ के नाम पर आज गलत तरिको से तावीज़ का करोबार गर्म हैं साथ ही इससे अल्लाह से दूरी, ईमान मे कमज़ोरी और बदअकीदे को मज़बूती मिलती हैं लिहाज़ा नबी का ये कौल के ताविज़ लटकाना शिर्क हैं ये ही मुसल्मान के लिये काफ़ी हैं|

जादू और ज्योतिष

जादू, ज़्योतिष और इन तांत्रिको के सिलसिले मे
अल्लाह का इर्शाद हैं-

और वे उस चीज़ के पीछे पड़ गये जिसे शैतान सुलैमान की सल्तनत पर लगा कर पढ़ते थे| हालाँकि सुलैमान ने कुफ़्र नही किया बल्कि ये शैतान थे जिन्होने कुफ़्र किया वे लोगो को जादू सिखाते थे और वे उस चीज़ मे पड़ गये जो बाबिल मे दो फ़रिश्ते हारूत और मारूत पर उतारी गयी, जबकि उनका हाल ये था कि जब भी किसी को अपना यह फ़न(कला) सिखाते तो उससे कह देते कि हम तो आजमाइश के लिये हैं पस तुम मुन्किर न बनो| मगर वे उनसे वह चीज़ सीखते जिससे मर्द और उसकी औरत कि दर्मियान जुदाई डाल दें| हालांकि वे अल्लाह के हुक्म के बिना इससे किसी का कुछ बिगाड़ नही सकते थे और वे ऐसी चीज़ सीखते जो उन्हे नुकसान पहुंचाये और नफ़ा न दे| और वे जानते थे कि जो इस चीज़ का खरीदार हो, आखिरत मे उसका कोई हिस्सा नही| कैसी बुरी चीज़ हैं जिसके बदले उन्होने अपनी जानो को बेच डाला| काश वे इसे समझते और अगर वे मोमिन बनते और तकवा इख्तियार करते तो अल्लाह का बदला उनके लिये बेहतर था, काश वे इसे समझते|

(सूरह अल बकरा 2/102, 103)

हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 से रिवायत हैं के
नबी ने फ़रमाया – सात हलाक करने वाली चीज़ो से बचो|
सहाबा रज़ि0 ने पूछा ऐ अल्लाह के रसूल वो सात चीज़े क्या हैं?
आपने (ﷺ) ने फ़रमाया –

  1. अल्लाह के साथ शिर्क करना,
  2. जादू,
  3. उस जान को बेवजह कत्ल करना जिसे अल्लाह ने हराम किया हैं,
  4. सूद खाना,
  5. यतीम का माल खाना,
  6. जिहाद से फ़रार होना,
  7. भोली भाली पाक दामन मोमिन औरतो पर तोहमत बांधना|
    (बुखारी व मुस्लिम)
हज़रत सफ़िया रज़ि0 से रिवायत हैं के
नबी ने फ़रमाया –

जो शख्स किसी काहिन के पास जाये और इससे कोई बात पूछे तो इसकी 40 दिन तक नमाज़ कबूल न होगी|

(मुस्लिम)
हज़रत अबू मूसा अशअरी रज़ि0 से रिवायत हैं के
नबी ने फ़रमाया –

तीन आदमी जन्नत मे दाखील न होगे शराबी, रिश्तो को काटन वाला और जादू की तसदीक करने वाला|

(इब्ने माजा)

इन आयत और हदीस की रोशनी मे साफ़ ज़ाहिर हैं के जादू, ज्योतिष, मायाजाल, फ़ालगीरी, टोने-टोटके, शगुन और महूरत वगैराह कुफ़्रिया और शिर्किया काम हैं और दीन ए इस्लाम क इससे दूर-दूर तक कोई वास्ता नही बावजूद इसके आज मुसल्मान इस शिर्किया काम मे इस तरह मुलव्विश हैं जैसे ये उनकी ज़ाति ज़रुरियात हो और बिना इसके उनकी परेशानी दूर नही हो सकती|

एक गलत अकीदा

अमूमन जब लोगो को इन तावीज़ गन्डे के शिर्किया काम से रोका जाता हैं तो वो ये जवाब देते हैं के वो ये तावीज़ अच्छे आलिमो से हासिल करते हैं और ये ताविज़ कुरान की आयतो का हैं और कुरान मे तो अल्लाह ने खालिस शिफ़ा रखी है तो इसको क्यो ने ज़रूरत के तौर पर इस्तेमाल किया जायेजबकि इससे फ़ायदा पहुंचता हैं जिस मकसद के लिये ये तावीज़ ली जाती हैं| यहां इस बात की वज़ाहत करना लाज़िम हैं के उल्मा का अमल सही या गलत होने की दलील नही चाहे वो तावीज़ हो य कोई और चीज़ उल्मा के भी अमल और कौल को सबसे पहले कुरान और हदीस की कसौटी पर परखा जायेगा अगर उनका कौल और अमल कुरान और हदीस के मुवाफ़िक हैं तो बेशक उनकी बात काबिले अमल हैं और इस पर अमल करने मे कोई हर्ज़ नही|

इसमे कोई शक नही के यकीनन अल्लाह ने कुरान मे मोमिनो के लिये शिफ़ा रखा हैं लेकिन उस तरह जिस तरह नबी ने बताया हैं न के अपने हिसाब से जैसे चाहे कुरान की ताविज़ात बना कर लोगो को पहुचा दिया जाये और उनके काम हल हो जाये| जिस तरह दवा मे शिफ़ा हैं मगर जब तक उसको सही डाकटर से बिना मशवरे के इस्तेमाल करने मे नुकसान हैं ठीक इसी तरह नबी ने कुरान के तावीज़ात बना कर इस्तेमाल करने की कोई तालीम किसी को नही दी बल्कि तावीज़ लटकाने से मना फ़रमाया| लिहाज़ा कुरान को तावीज़ात के तौर पर इस्तेमाल करना सरासर गलत और कुरान की तौहीन हैं| इसके अलावा कुरान की आयतो को तावीज़ात के तौर पर देने वाले अगर हमारे मआशरे मे 1% हैं तो 99% तावीज़ात कुरान की आयतो की तावीज़ के नाम पर जादू, नम्बर,उल्टी-सीधी लकीरो, और न समझ मे आने वाले लिखी गयी चीज़ो पर हैं जो की कुरान की तावीज़ात के नाम पर हर सड़क छाप मौलवी लोगो को शिफ़ा के नाम पर बेच रहे हैं| इन तावीज़ की हकीकत तब खुलती हैं जब इनको खोल कर देख जाता हैं|

जबकि खुद अल्लाह के रसूल सल्लललाहो अलेहे वसल्लम का इर्शाद हैं- हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 से रिवायत हैं के
नबी ने फ़रमाया –

अल्लाह ने कोई बीमारी ऐसी नही उतारी जिसकी दवा भी न हो|

(सहीह बुखारी)

इसके अलावा कुरानी ताविज़ नाम पर ये शिफ़ा बेचने वाले और खरीदने वाले ये भी भूल जाते हैं के कुरानी तावीज़ लटकाने वाला हर इन्सान पाकी और नापाकी दोनो हालत मे तावीज़ को लटकाये रखता हैं| उसए पहने हुये लैट्रीन भी चला जाता हैं उसी हालत मे बीवी से हमबिस्तर भी होता हैं और उसे पहन के सोता भी हैं ये कुरान उसके ऊपर नीचे आती है| बाज़ तावीज़ात तो कमर मे बांधने तक के लिये भी दिये जाते हैं|

तावीज़ गन्डा करने वालो की हकीकत

आज मौजूदा दौर मे इल्म को दुनियावी ऐतबार जो तरक्की का फ़ैज़ और शर्फ़ हासिल हैं वो इससे पहले देखने मे नही आता बावजूद इसके लोग सही तरीके से इलाज का तरीका छोड़ तावीज़ गन्डो की तरफ़ भागते हैं और तो और ये भी नही देखते के तावीज़ गन्डा देने वाले का खुद का दीनी दुनयावी म्यार क्या हैं| ये तावीज़ गन्डा देने वाले अकसर जिन्न और शैतान के ताबेदार होते हैं अनगिनात गन्दे शिर्किया अमल करके ये इन्सान की शकल मे शैतान के ताबेदार जिन्न और शयातीन को खुश करने के वो तमाम गन्दे और शिर्किया काम करते हैं और इसके सहारे जिन्न और श्यातीन से अपने काम करवाते हैं|
अल्लाह कुरान मे फ़रमाता हैं –

क्या मैं तुम्हे बताऊँ की शैतान किस पर उतरते हैं| वो हर झूठे गुनाह्गार पर उतरतेए हैं| वे कान लगाते हैं उनमे से अकसर झूठे हैं|

(सूरह अश शुअरा 26/221-222)

इसके अलावा अल्लाह के रसूल सल्लललाहो अलेहे वसल्लम ने फ़रमाया- हज़रत आयशा रज़ि0 से रिवायत हैं के कुछ लोगो ने नबी से काहिनो के बारे मे पूछा तो

नबी ने फ़रमाया –

इसकी कोई बुनियाद नही| लोगो ने कहा – ऐ अल्लाह के नबी बाज़ वक्त वो हमे ऐसी बाते बताते हैं जो सही होती हैं| नबी ने फ़रमाया – ये कल्मा हक होता हैं| इसे काहिन किसी जिन्न से सुन लेता हैं या वो जिन्न अपने काहिन दोस्त ले कान मे डाल जाता हैं और फ़िर ये काहिन इसमे सौ झूठ मिला कर ब्यान करता हैं|

(बुखारी)

इस हदीस से वाज़े हैं के ऐसे अमल की कोई हैसियत नही अल्बत्ता बाज़ शैतान किस्म के लोग जिनके राब्ते मे शैतान जिन्न होते हैं और उसके ज़रिये वो लोगो को उनके बारे मे बताते हैं जैसे किसी इन्सान को कोई परेशानी हो और वो इससे छुटकारा हासिल करने के लिये किसी काहिन के पास जाता हैं तो शैतान जिन्न पहले ही काहिन को उस इन्सान के बारे मे और उसकी परेशानी के बारे मे बता देता| जब काहिन उस इन्सान को उसके आने का सबब और परेशानीयो के बारे मे बताता हैं तो इन्सान उस काहिन को बहुत पहुंचा हुआ समझता हैं और उससे मुतास्सिर होकर उसी का होकर रह जाता हैं हालाकि ज़ाहिरी तौर पर वो इन्सान अपना ईमान और अकीदा खो देता हैं मगर वो यही समझता हैं के ये काहिन खुदा का कोई नुमाइंदा हैं| और इसके ज़रीये उसे शिफ़ा हासिल होगा|

इसके अलावा ये काहिन या जादू करने वाले गैर उल्लाह के नाम पर नज़्रो नियाज़ देने की हिदायत भी करते हैं के फ़ला काम को पूरा करने के लिये फ़लां बाबा के नाम पर मुर्ग और फ़लां मज़ार पर चादर और फ़लां के नाम पर फ़ातिहा दे देना वगैराह| जरूरतमंद इन तावीज़ गन्डा देने वालो के चक्कर मे पड़कर अपने ईमान भी खो बैठता हैं|

अल्लाह कुरान मे फ़रमाता हैं –

कहो यकीनन ही मेरी नमाज़ और मेरि कुर्बानी, मेरा जीना और मेरा मरना अल्लाह के लिये हैं जो सारी कायनात क रब हैं उसका कोई शरीक नही हैं|

(सूरह अनआम6/162)

नबी ने फ़रमाया – उस पर लानत हो जो अल्लाह के अलावा किसी और के लिये ज़बीहा करे| (मुस्लिम)

इसके अलावा इन तावीज़ गन्डा देने वालो मे से कुछ ऐसे भी हैं जो शरीयत से कोसो दूर हैं मसलन 5 वक्त तो दूर इन्हे इन्हें वक्त की नमाज़ पढ़ने का भी शर्फ़ हासील नही, रमज़ान के रोज़े तो दूर इनको कभी नफ़्ली तोज़ा रखने का भी शर्फ़ हासील नही बल्कि इनमे से बाज़ तो ऐसे भी बदकिरदार हैं के ये तावीज़ गन्डे और शिफ़ा के नाम पर औरतो की इज़्ज़तो से भी खेलते हैं| अगर किसी औरत पर जिन्न या आसेबी का असरात हो या न भी हो तो ये उसे जिन्न या आसेबी परेशानी बता कर उस और को बिना तन्हाई मे लिये ईलाज नही करते फ़िर अल्लाह ही बेहतर जाने के ये उस तन्हाई मे क्या गुल किलाते है इनमे जो औरते होशोहवास मे दुरुस्त अगर इनकी करतूतो की कलैइ खोल अपनी इज़्ज़त बचाने मे कामयाब हो गयी तो ठीक वरना अल्लाह ही बेहतर जान सकता हैं के ये ज़लील किसके साथ क्या हरकत कर गुज़रते हैं| जबकि खुद अल्लाह के रसूल

नबी ने फ़रमाया का इरशाद हैं –

कोई मर्द किसी औरत के साथ तन्हाई मे न रहे, न कोई औरत सफ़र करे य यह की उसके साथ उसका महरम हो|

(बुखारी व मुस्लिम)

तावीज़ गन्डे से ईमान की कमज़ोरी

अमूमन तावीज़ गन्डो पर यकीन करने वाले शिर्क जैसे गुनाह को भी तावीज़ गन्डे से शिफ़ा के नाम पर करने मे गुरेज़ नही करते जिससे इन्सान का ईमान जाता रहता हैं और उसए पता तक नही चलता के वो शिर्क मे मुब्तला हैं| साथ ही इसका इस्तेमाल करने वाल ज़रूरतमंद का अल्लाह पर यकीन कमज़ोर पड़ जाता हैं और वो ये समझता हैं के उसके हाजत सिर्फ़ तावीज़ गन्डे से ही पूरी होगी जबकी तमाम जहांन के लोगो की हाजतो औ ज़रूरत को पूरा करने वाली ज़ात सिर्फ़ अल्लाह ही की हैं| साथ ही लोग ये समझते हैं की उनकी तकदीर तावीज़ गन्डे के इस्तेमाल से बदल जायेगी जबकी ईमान के तकाज़े मे ये भी शामील हैं के मुसलमान अच्छी और बुरी तकदीर पर भी ईमान लाये तब ही वो मुसलमान बन सकता हैं| अमूमन इसका इस्तेमाल करने वालो का ईमान इतना कमज़ोर हो जाता हैं के हर मुसीबत को वो जिन्न या आसेबी आफ़त समझते है और उनके इस कमज़ोर ईमान के सबब तावीज़ गन्डे देने वाले उनसे मनचाही कीमते वसूलते हैं|

शिफ़ा देने वाली ज़ात सिर्फ़ अल्लाह की हैं|

किसी भी मर्ज़ के इलाज से पहले इन्सान को ये ईमान रखना चाहिये के शिफ़ा देने वाली ज़ात सिर्फ़ अल्लाह की हैं| नफ़ा नुकसान का मालिक सिर्फ़ अल्लाह हैं अगर वो शिफ़ा देना चाहे तो शिफ़ा दे और न चाहे तो न दे| बीमारी चाहे कैसी भी हो शिफ़ा देने वाली ज़ात सिर्फ़ अल्लाह की हैं|

अल्लाह कुरान मे फ़रमाता हैं –

कौन हैं जो बेबस की पुकार सुनता हैं और उसके दुख को दूर करता हैं|

(सूरह नमल 27/62)

और अगर अल्लाह तुझे कोई दुख पहुंचाये तो उसके सिवा कोई उसे दूर करने वाला नही| और अगर अल्लाह तुझे कोई भलाई पहुंचाये तो वो हर चीज़ पर कादिर हैं| और उसी का ज़ोर हैं अपने बन्दो पर|

(सूरह अनआम 6/17)

और अल्लाह अगर तुम्हे किसी तकलीफ़ मे पकड़ ले तो उसके सिवा कोई नही जो उसे दूर कर सके|

(सूरह यूनुस 10/107)

और जब मैं बीमार हो जाता हूं तो वही मुझे शिफ़ा देता हैं|

(सूरह शूअरा 26/80)

इसके अलावा अल्लाह के रसूल सल्लललाहो अलेहे वसल्लम का इरशाद हैं- हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ि0 फ़रमाते हैं-एक दिन मैं नबी के साथ था|

नबी ने मुझसे फ़रमाया –

ऐ लड़के! मैं तुम्हे कुछ बताता हूं| तुम अल्लाह के हुक्म की पाबन्दी हिफ़ाज़त करो अल्लाह तुम्हारी हिफ़ाज़त करेगा| तुम अल्लाह के हुक्म की हिफ़ाज़त करोगे तो तुम उसे अपने सामने पाओगे| जब तुम मांगो अल्लाह ही से मांगो और जब तुम मदद चाहो तो अल्लाह हि से मदद चाहो और याद रखो कि पूरे लोग मिलकर तुम को कुछ फ़ायदा पहुंचाना चाहे तो कुछ भी फ़ायदा न पहुंचा सकेंगे मगर वही जो अल्लाह ने तुम्हारे लिये लिख दिया हैं और अगर सब लोग मिलकर तुम को कुछ नुकसान पहुंचाना चाहे तो कोई नुकसान नही पहुंचा सकेंगे मगर वही जो अल्लाह ने तुम्हारे लिये लिख दिया हैं| कलम उठा लिये गये है और कागज़ खुश्क हो गये हैं|

(तिर्मिज़ी)

इलाज का शरई तरीका

इस्लाम एक मुकम्मल दीन हैं| इसके अन्दर इन्सान की तमाम परेशानी का हल मौजूद हैं| इस्लाम ने इन्सान को किसी भी जगह अंधा नही छो।दा बल्कि पेशाब और पाखाना का भी एक तरीका बताया| लिहाज़ा बीमारियो के बरे मे भी इस्लाम ने पूरी तरह से रहनुमाई करी हैं| इस्लाम न अलग-अलग तरह की बीमारियो के इलाज के लिये दो तरिके ब्यान किये हैं
  1. दवाओ के ज़रिये
  2. ज़िक्र और दुआ के ज़रिये

दवाओ के ज़रिये इलाज

नबी की ये सुन्नत थी के आप खुद अपना इलाज करते और दूसरो को इलाज के लिये नसीहत करते|

हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 से रिवायत हैं के –
नबी ने फ़रमाया –

अल्लाह ने दुनिया मे जब कोई बीमारी पैदा की तो उसका इलाज और दवा भी साथ ही साथ उतारी|

(बुखारी)
हज़रत जाबिर रज़ि0 से रिवायत हैं की
नबी ने फ़रमाया –

हर बीमारी के लिये दवा मौजूद हैं जब दवा का इस्तेमाल बीमारी के मुताबिक किया जाता हैं तो अल्लाह के हुक्म से शिफ़ा हो जाती हैं|

(मुस्लिम)

हज़रत उसामा बिन शरीक रज़ि0 से रिवायत हैं – मैं नबी की खिदमत मे हाज़िर था कि कुछ गांव के रहने वाले लोग हाज़िर हुये और
आप सल्लललाहो अलेहे वसल्लम से पूछा – ऐ अल्लाह के रसूल सल्लललाहो अलेहे वसल्लम! क्या हम दवा करे?
आपने फ़रमाया – ऐ अल्लाह के बन्दो! दवा करो क्योकि अल्लाह ने जो बीमारी दुनिया मे पैदा की उसकी शिफ़ा और दवा भी पैदा की हैं केवल एक बीमारी की कोई दवा नही|
लोगो ने पूछा – वह कौन सी बीमारी? आपने फ़रमाया – बुढ़ापा| (इब्ने माजा)

हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 से रिवायत हैं कि
नबी ने फ़रमाया –

कलौंजी मे हर बीमारी की शिफ़ा हैं मौत के अलावा|

(बुखारी व मुस्लिम)
हज़रत आयशा रज़ि0 से रिवायत हैं की
नबी ने फ़रमाया –

बुखार जहन्नम की सांस का असर हैं लिहाज़ा उसे पानी से ठण्डा करो|

(बुखारी व मुस्लिम)
हज़रत अबू सईद खुदरी रज़ि0 से रिवायत हैं के –

एक शख्स नबी की खिदमत मे हाज़िर हुआ और कहा – मेरे भाई को दस्त आ रहे हैं|
आपने फ़रमाया – उसे शहद पिलाओ|
फिर दोबारा वह शख्स हाज़िर हुआ और कहा – मैने शहद पिलाया उससे दस्त और बढ़ गये|
आप इसे तीन बार यही हुक्म देते रहे की शहद पिलाओ|
फ़िर चौथी बार वह शख्स हाज़िर हुआ तो आपने फ़रमाया – उसे शहद पिलाओ|
उसने कहा की दस्त बढ़ते जा रहे हैं तो अल्लाह के रसूल ने फ़रमाया – अल्लाह का कौल सच्चा हैं और तुम्हारे भाई का पेट झूठा हैं| उसने उसे शहद पिलाया और वो ठीक हो गया|

(बुखारी व मुस्लिम)

इस तरह नबी ने अलग-अलग बीमारियो के लिये अलग अलग तरीके से इलाज बताया हैं| इस बारे मे अल्लामा इब्ने कय्युम ने जादुल मुआद मे तिब्बे नबवी के हवाले से बड़ी भरपूर बहस की हैं| उर्दू मे तिब्बे नबवी के नाम से इसका तर्जुमा छप चुका हैं|

लिहाज़ा इन्सान को चाहिये के बीमारी मे अच्छे किस्म के हकीमो से सलाह करे और अल्लाह की ज़ात से शिफ़ा की उम्मीद करे|

ज़िक्र व दुआ के ज़रिये

इलाज के लिये जो दूसरा तरीका इस्लाम ने बताया हैं वह कुरानी आयतो और ज़िक्र से झाड़ फ़ूंक के ज़रिये हैं|
हज़रत आयशा रज़ि0 से रिवायत हैं –

नबी ने उनके घर मे एक बच्ची देखा जिसका चेहरा ज़र्द(पीला) पड़ चुका था तो
आपने (ﷺ फ़रमाया – उसे बुरी नज़र लगी हैं उसकी झाड़-फ़ूंक करो|

(बुखारी व मुस्लिम)
हज़रत अनस रज़ि0 से रिवायत हैं के –

नबी ने बुरी नज़र, ज़हरीले जानवर के काटने और डंक मारने, और पहलू की फ़ुंसियो के इलाज मे झाड़-फ़ूंक करने की इजाज़त दी हैं|

(मुस्लिम)
हज़रत आयशा रज़ि0 से रिवायत हैं –

नबी जब बीमार होते तो सूरह नास और सूर ह्फ़लक पढ़कर अपने ऊपर दम करते और जब आपकी बीमारी बढ़ गयी तब मैं आप पर दम करके पढ़ती थी और आपके पाक जिस्म पर हाथ फ़ेरती ताकि आपको हाथो की बरकत हासिल हो|

(बुखारी व मुस्लिम)
हज़रत उस्मान बिन अबी आस रज़ि0 से रिवायत हैं –

की उन्होने नबी से अपने जिस्म मे दर्द कि हkआयत की तो आपने फ़रमाया – तुम अपना हाथ उस जगह रखो जहा दर्द होता हैं और तीन बार बिस्मिल्लाह कहो और सात बार यह दुआ पढ़ो – आऊज़ो बिल्लाही व कुदरती मिन शर्रीमा उजिदू व उहाजिरु|

(मुस्लिम)

इन हदीसो की रोशनी मे साफ़ ज़ाहिर हैं के कुरान की आयतो और ज़िक्र के ज़रिये झाड़-फ़ूंक जायज़ हैं| इसकी सही सूरत ये के बीमार खुद इसको पढ़े या अपने घर के लोगो से पढ़वाये या किसी मुत्तकी परहेज़गार जो शरिअत का पाबन्द हो उससे ये झाड़-फ़ूंक करवाए|

झाड़-फ़ूंक के बारे मे उल्मा ने कुछ उसूल ब्यान करे हैं जैसे –
अल्लामा खत्ताबी रह0 फ़रमाते हैं –

नबी ने झाड़-फ़ूंक किया हैं और आपको झाड़-फ़ूंक किया गया हैं| आपने इसका हुक्म फ़रमाया हैं और इजाज़त दी हैं| लिहाज़ा कुरानी आयतो से झाड़-फ़ूंक जायज़ हैं और मनाही उस झाड़-फ़ूंक मे हैं जो अरबी ज़ुबान मे न हो क्योकि खतरा हैं के वो कुफ़्रिया और शिर्किया जुमलो पर हो|

(तैसीरुल अज़िज़ुल हमीद पेज 165)
अल्लामा सिवती रह0 फ़रमाते हैं के – उल्मा तिन शर्तो के साथ झाड़-फ़ूंक के जायज़ होने पर मुत्तफ़िक हैं-
  1. कुरानी आयतो या अल्लाह के पाक नामो से किया जाये
  2. अरबी ज़ुबान मे हो जिसका मतलब पता हो और साफ़ हो|
  3. यह अकीदा हो कि झाड़-फ़ूंक अपनी जगह हैं बल्कि इसके ज़रिये शिफ़ा देने वाली ज़ात अल्लाह ही की हैं और जो अल्लाह ने लिख दिया वही होता हैं|
    (तैसीरुल अज़िज़ुल हमीद पेज 167)

लिहाज़ा इन शर्तो को ध्यान मे रखते हुये झाड़-फ़ूंक के ज़रिये इलाज करना जायज़ हैं| लेकिन झाड़-फ़ूंक के नाम पर खाने-पीने की चीज़ो पर दम करना और उसे बीमार को खिलाना नबी से साबित नही और इससे बचना चाहिये|

हज़रत इब्ने अब्बास रज़ि0 से रिवायत हैं के नबी ने बर्तन मे सांस लेने या फ़ूंक मारने से मना किया हैं| (इब्ने माजा)

Source: Islam-the truth
Courtesy : www.ieroworld.net

रजब के कूंडे

Rajab Ke Kunde

रजब के कूंडे

दुश्मने इस्लाम ने जितनी कोशिश इस्लाम का असल चेहरा बदलने के लिये की हैं अगर वो इतनी ही कोशिश इस्लाम को समझने मे करते तो शायद उनको दुनिया और आखिरत दोनो मे फ़ायदा पहुंचता मगर जब किसी के दिल और कानो पर मुहर लग जाती हैं तो उसे शैतान की राह के सिवा कुछ नही मिलता|

इन दुश्मनो ने इस्लाम मे बिदअतो को इतनी खूबसूरती के साथ बनाकर पेश किया के ये बिदअते असल दीन हैं, भोली-भाली मुस्लिम कौम इनके जाल मे फ़ंस कर असल दीन को भूल कर इन बिदअतो मे मश्गूल हो गयी| साथ ही कुछ जाहिल किस्म के मौलवियो ने भी इन बिदअतो की हकीकत जानना तो दूर उल्टा इन्हे इतना बढ़ावा दिया के धीरे-धीरे ये बिदअते इस्लाम का एक अरकान बन गयी और आज हालत ये हैं के मुसल्मान खुद को मुसल्मान कहता हैं कल्मा नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम का पढ़ता हैं और अमल इस्लाम के मुखालिफ़ (बिदअतो) करता हैं| इन्ही बिदअतो मे से एक बिदअत रजब के कूंडे हैं जिसे मुसल्मान बड़े जौक-शौक से मनाता हैं| आइये ज़रा इसका जायज़ा लेते हैं के ये बिदअत की हकीकत क्या हैं|

रजब के कूंडे रजब के महीने मे मनाये जाते हैं और लोग इसे इमाम जाफ़र सादिक के नाम से कूंडे भरते हैं| इसको साबित करने के लिये एक झूठी कहानी का सहारा लेते हैं जिस का मसला कुछ इस तरह हैं की मदीना मे एक गरीब लकड़हारा रहता था, उसकी बीवी वज़ीर के घर झाड़ू देती थी| एक दिन उसने महल(घर) के दरवाजे के पास इमाम जाफ़र बिन मुहम्मद सादिक को ये फ़रमाते सुना कि जो शख्स आज 22 रजब को नहा धो कर मेरे नाम के कूंडे भरे, फ़िर अल्लाह से जो भी दुआ करे वो कबूल होगी, नही तो कयामत के दिन वो मेरा गिरेबान पकड़ ले| उस लकड़हारे की बीवी ने ऐसा ही किया और उसका शौहर बहुत सी माल दौलत लेकर वापस लौटा और एक आलीशान मकान बना कर उसमे रहने लगा और वज़ीर की बीवी ने कूंडे की हकीकत से इन्कार किया तो उसके शौहर की वज़ारत चली गयी| फ़िर जब उसने तौबा की और कूंडे की हकीकत को तस्लीम किया तो उसके शौहर की वज़ारत बहाल हो गयी और वो पहले की तरह मालदार हो गये| इसके बाद बादशाह और उसकी कौम हर साल बड़ी धूम-धाम से कूंडे की रस्म मनाने लगी|

इस मनगढ़तं कहानी को कुरान और हदीस की रोशनी मे देखे तो पता चलता हैं के इसमे एक शिर्किया काम की दावत दी गयी हैं क्योकि इसमे गैर उल्लाह (इमाम ज़ाफ़र सादिक) के नाम से नज़्र नियाज़ दी जाती हैं और गैर उल्लाह के नाम से नज़्र नियाज़ करना शिर्क हैं| क्योकि नज़्र मानना इबादत हैं और इबादत खालिस अल्लाह ही के लिये खास हैं, इसे किसी दूसरे के लिये करना अल्लाह के साथ शिर्क हैं| लिहाज़ा किसी नबी, वली, बुज़ुर्ग, पीर आदि के लिये नज़्र माना शिर्क हैं|
अल्लाह के रसूल
जो आदमी यह नज़्र माने कि वह अल्लाह की इताअत करेगा उसे चाहिये की अपनी नज़्र पूरी करके अल्लाह की इताअत करे, और जो आदमी अल्लाह की नाफ़रमानी की नज़्र माने तो उसे चाहिये की नाफ़रमानी न करे यानि अपनी नज़्र पूरी न करे|
(बुखारी)
इसी तरह इस कहानी मे 22 रजब को कूंडा भरने की बात कही गयी हैं जिसका इमाम जाफ़र सादिक की पैदाईश या मरने के दिन से कोई ताल्लुक नही, क्योकि रजब के महीने मे न उनकी पैदाईश हुयी और न मौत और मदीना के अन्दर जिस वज़ारत और बादशाहत का ज़िक्र किया गया हैं उसका तारिख मे कोई ज़िक्र नही मिलता बल्कि इमाम जाफ़र सादिक के ज़िन्दगी मे मुसलमानो की दारुल सल्तनत या तो दमिश्क मे रही या बगदाद मे| दरहकीकत ये शिर्किया रस्म और दूसरी रस्मो की तरह शियाओ से सुन्नीयो के अन्दर आई जो हकीकत मे अल्लाह के रसूल के जलीलो कद्र सहाबी हज़रत मुआविया रज़ि0 की वफ़ात (22 रजब) पर खुशी मनाते मनाते हैं लेकिन पर्दा डालने के लिये लकड़हारे की कहानी गढ़ ली गयी|

इसी तरह रजब के कूंडे भरने वाले इसी बीच अल्लाह की हलाल कर्दा चीज़ो जैसे गोश्त, मछली वगैराह खाने से बचाव करते हैं, जो के अल्लाह के इस कौल की खिलाफ़ वर्ज़ी हैं –
अल क़ुरआन –
ऐ ईमानवालो अल्लाह ने जो पाक चीज़े तुम्हारे लिये हलाल की हैं उन को हराम मत करो|
(सूरह अल मायदा 5/87)

इस्रा और मेराज कि रात की

रजब के महीने मे की जाने वाली इन बिदाअत मे से एक बिदाअत 27 वी रात को इस्रा व मेराज का जश्न मनाना हैं जिसके बारे मे न अल्लाह के रसूल से कोई दलील मिलती हैं न सहाबा से| बल्कि इन इबादत अक्ली एतबार से भी गलत हैं जैसे –
➊ इस्रा और मेराज जिस रात को हुआ इसकी तारिख, महीना और साल का कोई भी सबूत नही बल्कि इस बारे मे उल्मा के कई कौल मिलते हैं जो दस से भी ज़्यादा हैं| लिहाज़ा इस रात को खास मानना बेअक्ल और बेबुनियाद हैं|
➋ अगर इस रात की सही दिन तारीख उल्मा के किसी एक कौल को सही मान भी लिया जाये तब भी ये जायज़ नही के इस रात मे कोई ऐसी इबादत करे जो कि अल्लाह के रसूल और उनके सहाबी या ताबाईन या तबा ताबाईन से साबित नही| लिहाज़ा इसका कोई सबूत नही मिलता के नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने इसे कभी खुद किया हो या अपने सहाबी को करने का हुक्म दिया हो| साथ ही नबी के बाद इस रात की इबादत का ज़िक्र या हुक्म खुलफ़ा राशीदीन से भी नही मिलता और न कभी खुद खुलफ़ा राशीदीन ने इसको किया| इसलिए अगर इस रात का कही भी कोई ज़िक्र होता तो किसी न किसी सहाबी के ज़रिये कोई न कोई हदीस हम तक ज़रूर पहुंचती लेकिन ऐसा कही भी नही मिलता| बल्कि अल्लाह के रसूल ने अपनी ज़िन्दगी मे हर किस्म की इबादत के ताल्लुक से ही ज़ाती तौर पर अमल या अपने सहाबी के किसी हुक्म के ज़रिये नही पहुंचाया और आज जो लोग इस बिदअत को दीन ए इस्लाम का अहम रुक्न समझ कर करते हैं तो वो क्या ये साबित करना चाहते हैं के वो नबी से या सहाबा से या उनके बाद के लोगो से ज़्यादा दीनदार और अमल करने वाले हैं|
➌ इस जश्न के अन्दर कई तरह के नाजायज़ और गैर इस्लामी काम किये जाते हैं जिनका शरियत ए इस्लामिया से कोई ताल्लुक नही और सबसे ताज्जुब की बात ये हैं इस जश्न को मनाने वाले अनगिनत लोगो शरियत इस्लामी से हज़ारो मील दूर हैं जिनको ये तक शर्फ़ हासिल नही के नमाज़ पढ़े जो उन पर फ़र्ज़ हो चुकी हैं| अलबत्ता वो ऐसी बिदअतो मे बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं| और ऐसी खुशी का इज़हार करते हैं जैसे उन्होने दुनिया मे ही अपनी मग्फ़िरत करा ली हो और उन्हे जन्नत का सर्टिफ़िकेट मिल गया हो|
लिहाज़ा ये दीन का हिस्सा नही बल्कि बिदअत हैं जिसके लिये नबी का फ़रमान हैं के हर बिदअत गुमराही हैं और हर गुमराही जहन्नम मे ले जाने वाली हैं| लिहाज़ा इसको करने वाले अपने बचाव का कोई जवाब पहले ही सोच ले के उन्हे आखीरत मे अल्लाह को क्या जवाब देना हैं|

सलातुर्रगाइब

इस महीने की मशहूर बिदअतो मे एक बिदअत सलातुर्रगाइब हैं जो इस महीने के पहले जुमेरात का रोज़ा रखने के बाद पहले जुमे की रात को मगरिब और इशा की नमाज़ के बीच पढ़ी जाती हैं| इस बिदाअत को करने के लिये एक ऐसी हदीस का सहारा लिया जाता हैं जिस के मौज़ू (मनगढ़ंत) होने पर तमाम उल्मा का इत्तेफ़ाक हैं| इस बिदअत मे 12 रकात नमाज़ हैं हर रकात मे सूरह फ़ातिहा के बाद तीन बार सूरह कद्र और 12 बार सूरह इख्लास पढ़ी जाती हैं और हर 2 रकात पर सलाम फ़ेरा जाता हैं, नमाज़ से फ़ारिग होने के बाद 70 बार दरुद शरीफ़ पढ़ा जाता हैं और उसके बाद 2 सजदे किये जाते हैं और हर सजदे मे 70-70 बार “सुब्बुहुन कुद्दुसुन रब्बुल मलाईकते वर्रुहे” पढ़ी जाती हैं| इसके बाद अपनी हाजत का सवाल किया जाये तो हाजत पूरी हो जाती हैं| फ़िर इस नमाज़ की वह फ़ज़ीलत गिनाई गयी हैं जिन पर खुद इस हदीस के बातिल होने का पता चलता हैं| जैसे उस आदमी के सारे गुनाह माफ़ कर दिये जायेगे चाहे वो समुन्दर के बराबर हो, कयामत के दिन वह अपने घर वालो के साथ 700 लोगो की सिफ़ारिश करेगा, कब्र के अज़ाब से निजात पायेगा, मैदाने हश्र मे वह नमाज़ उस के सर पर साया करेगी…वगैराह| इस हदीस को अल्लामा इब्ने जौज़ी ने अपनी किताब “अल मौज़ुआत” मे ज़िक्र किया हैं|
इस नमाज़ की बिदअत की शुरुआत सबसे पहले बैतुल मुकद्दस मे 480 हिजरी के बाद ईजाद की गयी, इससे पहले किसी ने भी इस नमाज़ को नही पढ़ा|
(अबू बक्र अत तरतूशी की अल हवादिस वल बिदअ)
इस नमाज़ के बिदअत और गैर इस्लामिक होने मे कोई शक नही खासकर ये नमाज़ सहाबा इकराम के बाद वजूद मे आई और न ही नबी ने इसे कभी अपनी ज़िन्दगी मे पढ़ा और न सहाबा को इसे पढ़ने की तरगीब दिलाई| इसके अलावा न ही ताबाईन मे से किसी से ये साबित हैं और न तबा ताबाईन से ये नमाज़ साबित हैं|
शैखुल इस्लाम –
इब्ने तैमियाह रह0 फ़रमाते हैं –
सलातुर्रगाइब का कोई बुनियाद नही बल्कि यह ईजाद कर ली गयी बिदअत हैं| इसलिये इसे न जमात के साथ पढ़ना मुस्तहब हैं और न अकेले बल्कि सही मुस्लिम से साबित हैं के नबी ने जुमे की रात को क्याम के लिये और जुमे के दिन को रोज़ा रखने कि लिये खास करने से मना फ़रमाया हैं और इस बारे मे जिस हदीस को पेश किया जाता उसके झूठ और मनगढ़ंत होने पर उलमा का इत्तेफ़ाक हैं, सलफ़ और आइम्मा इकराम ने सिरे से इसको ब्यान ही नही किया हैं|
(मजमूअ फ़तावा 23/132)
साथ ही ये भी फ़रमाया –
अइम्मा ए दीन इस बात पर एक मत हैं कि सलातुर्रगाइब बिदअत हैं, न तो इसे नबी ने मसनून करार दिया हैं और न ही आप के खुलफ़ा ने और न ही अइम्मा ए दीन जैसे इमाम मालिक, शाफ़ई, हंबल, अबू हनीफ़ा, सौरी, औज़ाई और लैस वगैराह मे से किसी ने इसे मुसतहब समझा हैं और इस के बारे मे जो हदीस हैं वो मुहद्दिस के नज़दीक बिना किसी इख्तेलाफ़ के मौज़ूअ हैं|
(मजमूअ फ़तावा 23/134)
इमाम इब्नुल कैयिम रह0 फ़रमाते हैं –
इसी तरह रजब के पहले जुमा की रात को सलातुर्रगाइब पढ़ने की हदीसे नबी पर झूठ गढ़ी हुई हैं|
(अलमनारुल मुनीफ़ पेज नं 95)

रजबी सियाम व कियाम

रजब के महीने मे ईजाद कर ली गयी बिदाअतो मे एक बिदाअत ये भी है के इस महीने मे खास तौर से रोज़ा रखना या कियामुल्लैल करना भी हैं| ऐसा करने वाले इन बिदाअतो को करने के लिये ऐसी कमज़ोर दलीलो का सहारा करते हैं जिसका कोई वजूद नही बल्कि अकसर उल्माए दीन ने इन्हे बातिल और गलत करार दिया है –
शैखुल इस्लाम इब्ने तैमिया रह0 फ़रमाते हैं –
रजब और शाबान के महीने को एक साथ रोज़े या ऐतिकाफ़ के लिये खास करने के लिये नबि सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम, सहाबा या अइम्मा ए मुस्लिमीन से कोई चीज़ नही आई बल्कि सहीह बुखारी, मुस्लिम से साबित हैं के नबी शाबान से ज़्यादा किसी और महीने मे नफ़्ली रोज़ा नही रखते थे अलबत्ता जहा तक रजब के रोज़े का ताल्लुक हैं तो इस की सभी हदीसे ज़ैइफ़ बल्कि मौज़ू और मनगढ़ंत हैं| उल्मा उनमे से किसी हदीस पर भरोसा नही करते हैं और यह इस तरह की ज़ैइफ़ नही हैं जो फ़ज़ायल के अन्दर ब्यान की जाती हैं बल्कि ये तो खालिस गढ़ी हुई झूठी हदीसे हैं|
(मजमूअ फ़तावा 25/290, 291)
अल्लामा इब्ने रजब रह0 फ़रमाते हैं –
रजब के महीने की फ़ज़ीलत मे नबी और आप के सहाबा से कोई भी पुख्ता सबूत नही हैं|
(लताईफ़ुल मआरिफ़ पेज 140)
हाफ़िज़ इब्ने हजर रह0 फ़रमाते हैं –
रजब के महीने की फ़ज़ीलत या उसके रोज़े की फ़ज़ीलत या उसके किसी खास दिन के रोज़े की फ़ज़ीलत या इस महीने मे किसी खास रात का कियाम करने की फ़ज़ीलत मे कोई सही हदीस नही आई हैं जो सबूत बन सके| मुझ से पहले अबू इस्माईल अल हरवी ने भी इसी बात को साफ़ किया हैं|
(तबईनुल अजब बिमा वरदा फ़ी फ़ज़ले रजब पेज 5)

रजबी उमराह

कुछ लोगो की अकसरियत इस महीने मे उमराह करने के कायल हैं और ये गुमान करते हैं कि इस महीने मे उमराह करने की फ़ज़ीलत दूसरे महीनो से ज़्यादा हैं| हालाँकि इस बारे मे भी नबी की कोई सही हदीस मौजूद हैं न ही किसी उल्मा की या मुहद्दिस की इस बारे मे राये हैं कि रजब का उमराह की फ़ज़ीलत दूसरे महीनो से ज़्यादा हैं बल्कि आप ने अपनी ज़िन्दगी मे सिर्फ़ 4 बार उमराह किया हैं और उन मे कोई भी रजब के महीने मे नही किया हैं|

उरवा बिन ज़ुबैर रज़ि0 से मस्जिद नबवी मे अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ि0 के इस कौल कि नबी ने एक उमराह रजब मे किया था के बारे हज़रत आयशा रज़ि0 से पूछा तो –
आयशा रज़ि0 ने जवाब दिया –
अल्लाह अबू अब्दुर्रहमान पर रहम करे आप ने जो भी उमराह किया मै उस मे आप के साथ मौजूद थी और आप ने कभी भी रजब के महीने मे उमराह नही किया|
(सही बुखारी)
खास बात ये के अगर रजब के महीने मे अगर उमराह करने की फ़ज़ीलत दूसरे महीनो से ज़्यादा होती तो आप इस बात को सहाबा रज़ि0 को ज़रूर बताते जैसे –
आप ने ये फ़रमाया –
रमज़ान मे उमराह करना हज करने के बराबर हैं|
(बुखारी व मुस्लिम)
लिहाज़ा रजब के महीने मे जो लोग इन बिदाअतो को अन्जाम देते हैं उनको चाहिये के वो खालिस इस्लाम की तालिम जो नबी ने सहाबा को, सहाबा ने ताबाईन को और ताबाईन तबा ताबाईन को और इनसे आइम्मा, मुहद्दिस, उलमा तक पहुची उस पर तहकीक करे और इन बिदाअतो से बचे| मत भूले के कल हमे अल्लाह के सामने इसका जवाब भी देना हैं|
Source: Islam-the truth
Courtesy : www.ieroworld.net
www.taqwaislamicschool.com
Taqwa Islamic School
Islamic Educational & Research Organization ( IERO )

मुस्लिम समाज और फिरके

मुस्लिम समाज और फिरके

अल क़ुरआन –

और तुम सब के सब (मिलकर) अल्लाह की रस्सी मज़बूती से थामे रहो और आपस में (एक दूसरे के) फूट ना डालो।

(सूरह आलि इमरान 3:103)

जिन लोगों ने अपने धर्म के टुकड़े-टुकड़े कर दिए और स्वयं गिरोहों में बँट गए, तुम्हारा उनसे कोई संबंध नहीं । उनका मामला तो बस अल्लाह के हवाले है । फिर वह उन्हें बता देगा, जो कुछ वे किया करते थे।

(सूरह अनआम 6:159)

भारत में इस्लाम की बरेलवी विचारधारा के सूफ़ियों और नुमाइंदों ने एक कांफ्रेंस कर कहा कि वो दहशतगर्दी के ख़िलाफ़ हैं। सिर्फ़ इतना ही नहीं बरेलवी समुदाय ने इसके लिए वहाबी विचारधारा को ज़िम्मेदार ठहराया।

इन आरोप-प्रत्यारोप के बीच सभी की दिलचस्पी इस बात में बढ़ गई है कि आख़िर ये वहाबी विचारधारा क्या है। लोग जानना चाहते हैं कि मुस्लिम समाज कितने पंथों में बंटा है और वे किस तरह एक दूसरे से अलग हैं?
इस्लाम के सभी अनुयायी ख़ुद को मुसलमान कहते हैं लेकिन इस्लामिक क़ानून (फ़िक़ह) और इस्लामिक इतिहास की अपनी-अपनी समझ के आधार पर मुसलमान कई पंथों में बंटे हैं। बड़े पैमाने पर या संप्रदाय के आधार पर देखा जाए तो मुसलमानों को दो हिस्सों – सुन्नी और शिया में बांटा जा सकता है। हालांकि सुन्नी और शिया भी कई फ़िरक़ों या पंथों में बंटे हुए हैं।

बात अगर शिया-सुन्नी की करें तो दोनों ही इस बात पर सहमत हैं कि अल्लाह एक है, मोहम्मद साहब उनके दूत हैं और क़ुरान आसमानी किताब यानी अल्लाह की भेजी हुई किताब है। लेकिन दोनों समुदाय में विश्वासों और पैग़म्बर मोहम्मद की मौत के बाद उनके उत्तराधिकारी के मुद्दे पर गंभीर मतभेद हैं। इन दोनों के इस्लामिक क़ानून भी अलग-अलग हैं।

सुन्नी

सुन्नी या सुन्नत का मतलब उस तौर तरीक़े को अपनाना है। जिस पर पैग़म्बर मोहम्मद (570-632 ईसवी) ने ख़ुद अमल किया हो और इसी हिसाब से वे सुन्नी कहलाते हैं।

एक अनुमान के मुताबिक़, दुनिया के लगभग 80-85 प्रतिशत मुसलमान सुन्नी हैं। जबकि 15 से 20 प्रतिशत के बीच शिया हैं।

सुन्नी मुसलमानों का मानना है कि पैग़म्बर मोहम्मद के बाद उनके ससुर हज़रत अबु-बकर (632-634 ईसवी) मुसलमानों के नए नेता बने, जिन्हें ख़लीफ़ा कहा गया।
इस तरह से अबु-बकर के बाद हज़रत उमर (634-644 ईसवी),
हज़रत उस्मान (644-656 ईसवी) और
हज़रत अली (656-661 ईसवी) मुसलमानों के नेता बने।

इन चारों को ख़ुलफ़ा-ए-राशिदीन यानी सही दिशा में चलने वाला कहा जाता है। इसके बाद से जो लोग आए, वो राजनीतिक रूप से तो मुसलमानों के नेता कहलाए लेकिन धार्मिक एतबार से उनकी अहमियत कोई ख़ास नहीं थी।

जहां तक इस्लामिक क़ानून की व्याख्या का सवाल है। सुन्नी मुसलमान मुख्य रूप से चार समूह में बंटे हैं। हालांकि पांचवां समूह भी है जो इन चारों से ख़ुद को अलग कहता है। इन पांचों के विश्वास और आस्था में बहुत अंतर नहीं है, लेकिन इनका मानना है कि उनके इमाम या धार्मिक नेता ने इस्लाम की सही व्याख्या की है।

दरअसल सुन्नी इस्लाम में इस्लामी क़ानून के चार प्रमुख स्कूल हैं।

आठवीं और नवीं सदी में लगभग 150 साल के अंदर चार प्रमुख धार्मिक नेता पैदा हुए। उन्होंने इस्लामिक क़ानून की व्याख्या की और फिर आगे चलकर उनके मानने वाले उस फ़िरक़े के समर्थक बन गए।

ये चार इमाम थे –
  1. इमाम अबू हनीफ़ा (699-767 ईसवी)
  2. इमाम शाफ़ई (767-820 ईसवी)
  3. इमाम हंबल (780-855 ईसवी)
  4. इमाम मालिक (711-795 ईसवी).

इमाम अबू हनीफ़ा (699-767 ईसवी)

इमाम अबू हनीफ़ा के मानने वाले हनफ़ी कहलाते हैं। इस फ़िक़ह या इस्लामिक क़ानून के मानने वाले मुसलमान भी दो गुटों में बंटे हुए हैं। एक देवबंदी हैं तो दूसरे अपने आप को बरेलवी कहते हैं।

देवबंदी और बरेलवी

दोनों ही नाम उत्तर प्रदेश के दो ज़िलों, देवबंद और बरेली के नाम पर है।
दरअसल 20वीं सदी के शुरू में दो धार्मिक नेता –
मौलाना अशरफ़ अली थानवी (1863-1943) और
अहमद रज़ा ख़ां बरेलवी (1856-1921) ने इस्लामिक क़ानून की अलग-अलग व्याख्या की।

अशरफ़ अली थानवी का संबंध दारुल-उलूम देवबंद मदरसा से था। जबकि
आला हज़रत अहमद रज़ा ख़ां बरेलवी का संबंध बरेली से था।

मौलाना अब्दुल रशीद गंगोही और मौलाना क़ासिम ननोतवी ने 1866 में देवबंद मदरसे की बुनियाद रखी थी।
देवबंदी विचारधारा को परवान चढ़ाने में –
  • मौलाना अब्दुल रशीद गंगोही
  • मौलाना क़ासिम ननोतवी और
  • मौलाना अशरफ़ अली थानवी, की अहम भूमिका रही है।

उपमहाद्वीप यानी –
  • भारत।
  • पाकिस्तान।
  • बांग्लादेश। और
  • अफ़ग़ानिस्तान। में रहने वाले अधिकांश मुसलमानों का संबंध इन्हीं दो पंथों से है।

देवबंदी और बरेलवी विचारधारा के मानने वालों का दावा है कि क़ुरान और हदीस ही उनकी शरियत का मूल स्रोत है लेकिन इस पर अमल करने के लिए इमाम का अनुसरण करना ज़रूरी है। इसलिए शरीयत के तमाम क़ानून इमाम अबू हनीफ़ा के फ़िक़ह के अनुसार हैं।

वहीं बरेलवी विचारधारा के लोग आला हज़रत रज़ा ख़ान बरेलवी के बताए हुए तरीक़े को ज़्यादा सही मानते हैं। बरेली में आला हज़रत रज़ा ख़ान की मज़ार है जो बरेलवी विचारधारा के मानने वालों के लिए एक बड़ा केंद्र है।

दोनों में कुछ ज़्यादा फ़र्क़ नहीं लेकिन कुछ चीज़ों में मतभेद हैं। जैसे बरेलवी इस बात को मानते हैं कि पैग़म्बर मोहम्मद सब कुछ जानते हैं, जो दिखता है वो भी और जो नहीं दिखता है वो भी। वह हर जगह मौजूद हैं और सब कुछ देख रहे हैं।

वहीं देवबंदी इसमें विश्वास नहीं रखते। देवबंदी अल्लाह के बाद नबी को दूसरे स्थान पर रखते हैं लेकिन उन्हें इंसान मानते हैं। बरेलवी सूफ़ी इस्लाम के अनुयायी हैं और उनके यहां सूफ़ी मज़ारों को काफ़ी महत्व प्राप्त है जबकि देवबंदियों के पास इन मज़ारों की बहुत अहमियत नहीं है, बल्कि वो इसका विरोध करते हैं।

इमाम मालिक (711-795 ईसवी)

इमाम अबू हनीफ़ा के बाद सुन्नियों के दूसरे इमाम, इमाम मालिक हैं जिनके मानने वाले एशिया में कम हैं। उनकी एक महत्वपूर्ण किताब ‘इमाम मोत्ता’ के नाम से प्रसिद्ध है।
उनके अनुयायी उनके बताए नियमों को ही मानते हैं। ये समुदाय आमतौर पर मध्य पूर्व एशिया और उत्तरी अफ्रीका में पाए जाते हैं।

इमाम शाफ़ई (767-820 ईसवी)

शाफ़ई इमाम मालिक के शिष्य हैं और सुन्नियों के तीसरे प्रमुख इमाम हैं।
मुसलमानों का एक बड़ा तबक़ा उनके बताए रास्तों पर अमल करता है, जो ज़्यादातर मध्य पूर्व एशिया और अफ्रीकी देशों में रहता है।
आस्था के मामले में यह दूसरों से बहुत अलग नहीं है लेकिन इस्लामी तौर-तरीक़ों के आधार पर यह हनफ़ी फ़िक़ह से अलग है। उनके अनुयायी भी इस बात में विश्वास रखते हैं कि इमाम का अनुसरण करना ज़रूरी है।

इमाम हंबल (780-855 ईसवी)

सऊदी अरब,
क़तर,
कुवैत,
मध्य पूर्व और कई अफ्रीकी देशों में भी मुसलमान इमाम हंबल के फ़िक़ह पर ज़्यादा अमल करते हैं और वे अपने आपको हंबली कहते हैं।

सऊदी अरब की सरकारी शरीयत इमाम हंबल के धार्मिक क़ानूनों पर आधारित है। उनके अनुयायियों का कहना है कि उनका बताया हुआ तरीक़ा हदीसों के अधिक करीब है।

इन चारों इमामों को मानने वाले मुसलमानों का ये मानना है कि शरीयत का पालन करने के लिए अपने अपने इमाम का अनुसरण करना ज़रूरी है।

सल्फ़ी, वहाबी और अहले हदीस

सुन्नियों में एक समूह ऐसा भी है, जो किसी एक ख़ास इमाम के अनुसरण की बात नहीं मानता और उसका कहना है कि शरीयत को समझने और उसका सही ढंग से पालन करने के लिए सीधे क़ुरान और हदीस (पैग़म्बर मोहम्मद के कहे हुए शब्द) का अध्ययन करना चाहिए।

इसी समुदाय को सल्फ़ी और अहले-हदीस और वहाबी आदि के नाम से जाना जाता है। यह संप्रदाय चारों इमामों के ज्ञान, उनके शोध अध्ययन और उनके साहित्य की क़द्र करता है।

लेकिन उसका कहना है कि इन इमामों में से किसी एक का अनुसरण अनिवार्य नहीं है। उनकी जो बातें क़ुरान और हदीस के अनुसार हैं उस पर अमल तो सही है लेकिन किसी भी विवादास्पद चीज़ में अंतिम फ़ैसला क़ुरान और हदीस का मानना चाहिए।

सल्फ़ी समूह का कहना है कि वह ऐसे इस्लाम का प्रचार चाहता है जो पैग़म्बर मोहम्मद के समय में था। इस सोच को परवान चढ़ाने का सेहरा इब्ने तैमिया और मोहम्मद बिन अब्दुल वहाब हुआ और उनके नाम पर ही यह समुदाय वहाबी नाम से भी जाना जाता है।

मध्य पूर्व के अधिकांश इस्लामिक विद्वान उनकी विचारधारा से ज़्यादा प्रभावित हैं। इस समूह के बारे में एक बात बड़ी मशहूर है कि यह सांप्रदायिक तौर पर बेहद कट्टरपंथी और धार्मिक मामलों में बहुत कट्टर है। सऊदी अरब के मौजूदा शासक इसी विचारधारा को मानते हैं।

सुन्नी बोहरा

गुजरात, महाराष्ट्र और पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मुसलमानों के कारोबारी समुदाय के एक समूह को बोहरा के नाम से जाना जाता है। बोहरा, शिया और सुन्नी दोनों होते हैं।

सुन्नी बोहरा हनफ़ी इस्लामिक क़ानून पर अमल करते हैं जबकि सांस्कृतिक तौर पर दाऊदी बोहरा यानी शिया समुदाय के क़रीब हैं।

अहमदिया

हनफ़ी इस्लामिक क़ानून का पालन करने वाले मुसलमानों का एक समुदाय अपने आप को अहमदिया कहता है। इस समुदाय की स्थापना भारतीय पंजाब के क़ादियान में मिर्ज़ा ग़ुलाम अहमद ने की थी।

इस पंथ के अनुयायियों का मानना है कि मिर्ज़ा ग़ुलाम अहमद ख़ुद नबी का ही एक अवतार थे।
उनके मुताबिक़ वे खुद कोई नई शरीयत नहीं लाए बल्कि पैग़म्बर मोहम्मद की शरीयत का ही पालन कर रहे हैं लेकिन वे नबी का दर्जा रखते हैं। मुसलमानों के लगभग सभी संप्रदाय इस बात पर सहमत हैं कि मोहम्मद साहब के बाद अल्लाह की तरफ़ से दुनिया में भेजे गए दूतों का सिलसिला ख़त्म हो गया है।

लेकिन अहमदियों का मानना है कि मिर्ज़ा ग़ुलाम अहमद ऐसे धर्म सुधारक थे जो नबी का दर्जा रखते हैं।

बस इसी बात पर मतभेद इतने गंभीर हैं कि मुसलमानों का एक बड़ा वर्ग अहमदियों को मुसलमान ही नहीं मानता। हालांकि भारत, पाकिस्तान और ब्रिटेन में अहमदियों की अच्छी ख़ासी संख्या है।

पाकिस्तान में तो आधिकारिक तौर पर अहमदियों को इस्लाम से ख़ारिज कर दिया गया है।

शिया

शिया मुसलमानों की धार्मिक आस्था और इस्लामिक क़ानून सुन्नियों से काफ़ी अलग है। वह पैग़म्बर मोहम्मद के बाद ख़लीफ़ा नहीं बल्कि इमाम नियुक्त किए जाने के समर्थक हैं।

उनका मानना है कि पैग़म्बर मोहम्मद की मौत के बाद उनके असल उत्तारधिकारी उनके दामाद हज़रत अली थे। उनके अनुसार पैग़म्बर मोहम्मद भी अली को ही अपना वारिस घोषित कर चुके थे। लेकिन धोखे से उनकी जगह हज़रत अबू-बकर को नेता चुन लिया गया।

शिया मुसलमान मोहम्मद के बाद बने पहले तीन ख़लीफ़ा को अपना नेता नहीं मानते बल्कि उन्हें ग़ासिब कहते हैं। ग़ासिब अरबी का शब्द है जिसका अर्थ हड़पने वाला होता है।

उनका विश्वास है कि जिस तरह अल्लाह ने मोहम्मद साहब को अपना पैग़म्बर बनाकर भेजा था। उसी तरह से उनके दामाद अली को भी अल्लाह ने ही इमाम या नबी नियुक्त किया था और फिर इस तरह से उन्हीं की संतानों से इमाम होते रहे।

आगे चलकर शिया भी कई हिस्सों में बंट गए।

इस्ना अशरी

सुन्नियों की तरह शियाओं में भी कई संप्रदाय हैं लेकिन सबसे बड़ा समूह इस्ना अशरी यानी बारह इमामों को मानने वाला समूह है। दुनिया के लगभग 75 प्रतिशत शिया इसी समूह से संबंध रखते हैं। इस्ना अशरी समुदाय का कलमा सुन्नियों के कलमे से भी अलग है।

उनके पहले इमाम हज़रत अली हैं और अंतिम यानी बारहवें इमाम ज़माना यानी इमाम महदी हैं। वो अल्लाह, क़ुरान और हदीस को मानते हैं, लेकिन केवल उन्हीं हदीसों को सही मानते हैं जो उनके इमामों के माध्यम से आए हैं।

क़ुरान के बाद अली के उपदेश पर आधारित किताब नहजुल बलाग़ा और अलकाफ़ि भी उनकी महत्वपूर्ण धार्मिक पुस्तक हैं। यह संप्रदाय इस्लामिक धार्मिक क़ानून के मुताबिक़ जाफ़रिया में विश्वास रखता है। ईरान, इराक़, भारत और पाकिस्तान सहित दुनिया के अधिकांश देशों में इस्ना अशरी शिया समुदाय का दबदबा है।

ज़ैदिया

शियाओं का दूसरा बड़ा सांप्रदायिक समूह ज़ैदिया है। जो बारह के बजाय केवल पांच इमामों में ही विश्वास रखता है। इसके चार पहले इमाम तो इस्ना अशरी शियों के ही हैं लेकिन पांचवें और अंतिम इमाम हुसैन (हज़रत अली के बेटे) के पोते ज़ैद बिन अली हैं जिसकी वजह से वह ज़ैदिया कहलाते हैं।

उनके इस्लामिक़ क़ानून ज़ैद बिन अली की एक किताब ‘मजमऊल फ़िक़ह’ से लिए गए हैं। मध्य पूर्व के यमन में रहने वाले हौसी ज़ैदिया समुदाय के मुसलमान हैं।

इस्माइली शिया

शियों का यह समुदाय केवल सात इमामों को मानता है और उनके अंतिम इमाम मोहम्मद बिन इस्माइल हैं और इसी वजह से उन्हें इस्माइली कहा जाता है। इस्ना अशरी शियों से इनका विवाद इस बात पर हुआ कि इमाम जाफ़र सादिक़ के बाद उनके बड़े बेटे इस्माईल बिन जाफ़र इमाम होंगे या फिर दूसरे बेटे।

इस्ना अशरी समूह ने उनके दूसरे बेटे मूसा काज़िम को इमाम माना और यहीं से दो समूह बन गए। इस तरह इस्माइलियों ने अपना सातवां इमाम इस्माइल बिन जाफ़र को माना। उनकी फ़िक़ह और कुछ मान्यताएं भी इस्ना अशरी शियों से कुछ अलग है।

दाऊदी बोहरा

बोहरा का एक समूह, जो दाऊदी बोहरा कहलाता है। इस्माइली शिया फ़िक़ह को मानता है और इसी विश्वास पर क़ायम है। अंतर यह है कि दाऊदी बोहरा 21 इमामों को मानते हैं।

उनके अंतिम इमाम तैयब अबुल क़ासिम थे। जिसके बाद आध्यात्मिक गुरुओं की परंपरा है। इन्हें दाई कहा जाता है और इस तुलना से 52वें दाई सैय्यदना बुरहानुद्दीन रब्बानी थे। 2014 में रब्बानी के निधन के बाद से उनके दो बेटों में उत्तराधिकार का झगड़ा हो गया और अब मामला अदालत में है।

बोहरा भारत के पश्चिमी क्षेत्र ख़ासकर गुजरात और महाराष्ट्र में पाए जाते हैं । जबकि पाकिस्तान और यमन में भी ये मौजूद हैं। यह एक सफल व्यापारी समुदाय है जिसका एक धड़ा सुन्नी भी है।

खोजा

खोजा गुजरात का एक व्यापारी समुदाय है। जिसने कुछ सदी पहले इस्लाम स्वीकार किया था। इस समुदाय के लोग शिया और सुन्नी दोनों इस्लाम मानते हैं।

ज़्यादातर खोजा इस्माइली शिया के धार्मिक क़ानून का पालन करते हैं लेकिन एक बड़ी संख्या में खोजा इस्ना अशरी शियों की भी है। लेकिन कुछ खोजे सुन्नी इस्लाम को भी मानते हैं। इस समुदाय का बड़ा वर्ग गुजरात और महाराष्ट्र में पाया जाता है। पूर्वी अफ्रीकी देशों में भी ये बसे हुए हैं।

नुसैरी

शियों का यह संप्रदाय सीरिया और मध्य पूर्व के विभिन्न क्षेत्रों में पाया जाता है। इसे अलावी के नाम से भी जाना जाता है। सीरिया में इसे मानने वाले ज़्यादातर शिया हैं और देश के राष्ट्रपति बशर अल असद का संबंध इसी समुदाय से है।

इस समुदाय का मानना है कि अली वास्तव में भगवान के अवतार के रूप में दुनिया में आए थे। उनकी फ़िक़ह इस्ना अशरी में है लेकिन विश्वासों में मतभेद है। नुसैरी पुर्नजन्म में भी विश्वास रखते हैं और कुछ ईसाइयों की रस्में भी उनके धर्म का हिस्सा हैं।

इन सबके अलावा भी इस्लाम में कई छोटे छोटे पंथ पाए जाते हैं।

अन्तिम बात

उपरोक्त लेख धन्यवाद के साथ मैंने “मुस्लिम इश्यूज नामक न्यूज़ पोर्टल” से लिया है। शीर्ष में क़ुरआन की दो आयतों का अनुवाद मैंने लगाया है ताकि लोगों को एहसास हो सके अल्लाह ने क़ुरआन में क्या फ़रमाया है और लोग क्या कर रहे हैं। अब मैं जो कहना चाहता हूँ बराए मेहरबानी दिल और दिमाग़ से सोचें।

यह दुनिया, सारा ब्रहमाण्ड अल्लाह सुब्हान व तआला का बनाया हुआ है। हम सब, चरिंद परिंद सब उसी अल्लाह के द्वारा बनाए गए हैं। सारे इंसान, वह किसी भी धर्म या जाति का हो सब को अल्लाह ही ने बनाया है और वह ही सब का निगेहबान है।

अल्लाह ने समय समय पर, हम इंसानों में ही अपना सन्देश वाहक (पैग़ंबर, नबी) भेजा और उन पर, उस क़ौम के लिए किताबें भेजी। और अंतिम किताब हम सब के अंतिम नबी और अल्लाह के रसूल प्यारे मुहम्मद सल्लाहु अलैहि वसल्लम पर, समय समय पर आयतों में, अपने दूत (फ़रिश्ते) हज़रत जिब्राईल अलैहिस सलाम द्वारा भेजी।
अल्लाह ने क़ुरआन में फ़रमाया –

और (ऎ रसूल मुहम्मद स.) हमने आपको सारी दुनिया जहान के लोगों के हक़ में अज़सरतापा रहमत बन कर भेजा।

(सूरह अल अंबिया 21:107)

यानि मुहम्मद सल्लाहु अलैहि वसल्लम, सारी इंसानियत, सारे जहान के लिए रहमत बना कर भेजे गए, चाहे वह हिन्दू हो, मुस्लिम हो, सिख हो, ईसाई हो, दलित हो, यहूदी हो, सब के लिए।

अल्लाह ने क़ुरआन सारे इंसानों के लिए नाज़िल किया है। सिर्फ मुसलमानो के लिए नहीं।

अब बात आ जाती है फ़िरक़ों पर। कम से कम निम्नलिखित स्थानों पर क़ुरआन में

अल्लाह तआला ने फ़रमाया कि –

अपने को मुस्लिम कहो

(सूरह अल बक़रह 2:132) (सूरह आलि इमरान 3:64) (सूरह आलि इमरान 3:67) (सूरह आलि इमरान 3:84) (सूरह अल अंबिया 21:108) (सूरह अल हज 22:78) (सूरह अल कसस् 28:53) (सूरह अनकबूत 29:46) (सूरह अज़ जुमर 39:12)
अल्लाह तआला ने कहीं भी क़ुरआन में नहीं कहा कि अपने को गिरोहों या फ़िरक़ों में बाँटो बल्कि –
अल्लाह तआला ने फ़रमाया कि –

जिन लोगों ने अपने धर्म के टुकड़े-टुकड़े कर दिए और स्वयं गिरोहों में बँट गए, तुम्हारा उनसे कोई संबंध नहीं । उनका मामला तो बस अल्लाह के हवाले है । फिर वह उन्हें बता देगा, जो कुछ वे किया करते थे।

(सूरह अनआम 6:159)

मैं अपने ग़ैर मुस्लिम भाइयों से कहना चाहूंगा के ईश्वर ने हम इंसानों को एक परीक्षा के लिए भेजा है और हम सब को मरना है और ईश्वर के पास जाना है। चूंकि हम सब इंसान हैं तो हम सब का दाइत्व है की हम सब मुहब्बत और भाईचारे के साथ एक दूसरे की मदद करें। अपने धर्मग्रन्थ को पढ़ें, समझे और उस पर अमल करें क्योंकि कोई भी धर्म नफ़रत की शिक्षा नहीं देता। तुल्यनात्मक धर्म का अध्धयन करें। इससे एक दूसरे को समझने में आसानी होगी और एक दूसरे में मुहब्बत बढ़ेगी।

मैं अपने मुस्लिम नौजवान भाइयों से गुज़ारिश करूँगा की क़ुरआन हिदायत नामा है उसको समझ कर पढ़ें और अमल करें और अल्लाह की हिदायत के मुताबिक अपने को मुस्लिम कहें।
अल क़ुरआन –

और तुम सब के सब (मिलकर) अल्लाह की रस्सी मज़बूती से थामे रहो और आपस में (एक दूसरे के) फूट ना डालो।

(सूरह आलि इमरान 3:103)

अल्लाह तआला हम सब को कहने सुनने ज़्यादा अमल करने की तौफ़ीक़ दे।
आमीन।
जेया उस शम्स

Source: Islam-the truth
Courtesy : www.ieroworld.net
www.taqwaislamicschool.com
Taqwa Islamic School
Islamic Educational & Research Organization ( IERO )

तलाक की छुरी और हलाले की लानत

Talaaq ki Chhoori Aur Halaale ki Laa’nat

तलाक शादीशुदा ज़िन्दगी का बहुत ही तकलीफ़देह मोड़ होता हैं, जिसमे शौहर बीवी के बीच निकाह का पाकीज़ा रिश्ता टूट जाता हैं| इन्फ़िरादी ज़िन्दगी हो या परिवारिक ज़िन्दगी हो, इस्लाम बुनियादी तौर पर कानून, रज़ामन्दी, इत्तेहादी, भाईचारे और मुहब्बत और रहम का परचम बुलन्द करता हैं| लड़ाई-झगड़ा, फ़ूट-बिखराव, असामाजिक और रिश्तो की खराबी को इस्लाम ने बुरा जाना हैं| कानूनी दायरे के तहत इस्लाम ने इत्तेहाद और आपसी रज़ामन्दी को इतनी अहमियत दी हैं के रिश्तो और रिश्तेदारो के हक मे..
मुहम्मद (ﷺ)का फ़रमान हैं के –

रिश्तो को काटने वाला जन्नत मे दाखिल नही होगा|

(बुखारी व मुस्लिम)

एक और जगह –
आप (ﷺ) ने फ़रमाया –

रहम अल्लाह के अर्श के साथ जुड़ा हैं और कहता हैं जो मुझे मिलाये अल्लाह उसे मिलायेगा जो मुझे काटे अल्लाह उसे काटेगा|

(बुखारी व मुस्लिम)

आम मुसल्मानो को यहां तक मिलजुल कर और मुहब्बत के साथ रहने का हुक्म दिया गया के –
फ़रमाने नबवी हैं –

किसी मुसल्मान के लिये अपने मुसल्मान भाई से तीन दिन से ज़्यादा लाताल्लुक रहन जायज़ नही और जो शख्स जो तीन दिन के बाद इसी हालत मे मर गया वह आग मे जायेगा|

(अहमद व अबू दाऊद)

शादीशुदा ज़िन्दगी के बारे मे तो इस्लाम का कानून ही यही हैं के ये रिश्ता (यानि निकाह) ज़िन्दगी भर साथ निभाने और एक दूसरे के साथ वफ़ा करने का रिश्ता हैं जिसके लिये अल्लाह खासकर दोनो(यानि शौहर और बीवी) के दिलो मे मुहब्बत और नर्मी का अहसास पैदा कर देता हैं| यहां तक की दोनो अफ़राद एक दूसरे के करीब से सुख महसूस करने लगते हैं| शादीशुदा ज़िन्दगी की इस छोटी सी ज़िन्दगी मे पाबन्दी, वफ़ादारी, रज़ामन्दी और भाईचारे को इस्लाम ने जितना अहमियत दी हैं इसका अन्दाज़ा दोनो के हक से इस बात से लगाया जा सकता हैं के –
नबी (ﷺ) ने फ़रमाया –

अगर मैं अल्लाह के सिवा किसी दूसरे को सजदा करने का हुक्म देता तो औरतो को हुक्म देता के अपने शौहर को सजदा करे|

(तिर्मिज़ी)

एक दूसरी हदीस मे –
आप (ﷺ) ने फ़रमाया –

उस ज़ात की कसम जिसके हाथ मे मेरी जान हैं जब शौहर बीवी को अपने बिस्तर पर बुलाये और बीवी इन्कार कर दे तो वो ज़ात जो आसमानो मे हैं नाराज़ रहती हैं| यहा तक कि उसका शौहर उससे राज़ी हो जाये|

(मुस्लिम)

इसके अलावा आप सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने और भी जगह लोगो को वाज़ और नसीहत की जैसे
नसीहत जैसे –

बीवी को गाली न दो| –(मुस्लिम)
बीवी को लौंडी की तरह न मारो| –(बुखारी)


और सबसे अहम जो बात इस रिश्ते मे मर्दो को ताकीद के साथ बताई वो ये के –

तुममे सबसे बेहतर वो हैं जो अपनी बीवी के हक मे बेहतर हैं|

(तिर्मिज़ी)

ज़रा गौर फ़िक्र कीजिये! अल्लाह और उसके रसूल सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम पर ईमान रखने वाला कोई भी मर्द या औरत अपनी शादीशुदा ज़िन्दगी मे उपर बताई गयी तालीमात का इन्कार करके इस्लाम की अज़मत को बिना किसी उज्र के रुसवा करने का ख्याल भी कर सकता हैं| अकसरियत का जवाब नही मे होगा| लेकिन फ़ितरते इन्सानी और आदतो मे इख्तेलाफ़ की वजह से उतार चढ़ाव इन्सानी ज़िन्दगी के ज़रूरी हिस्से हैं जिसमे शादीशुदा ज़िन्दगी मे दूसरे हिस्सो के मुकाबले ज़्यादा दुख और आजमाइश नज़र आती हैं| इब्लीस के चेले हर जगह और हर वक्त शादीशुदा ज़िन्दगी को बरबाद करने के लिये तैयार रहते हैं|
नबी (ﷺ) का इरशाद हैं –

इब्लीस का तख्त पानी पर र्हैं जहा से वो पूरी दुनिया मे अपने लश्कर को रवाना करता हैं और उसे सबसे ज़्यादा चहेता वो शैतान होता हैं जो सबसे ज़्यादा फ़ितना फ़ैलाये| (वापस आकर) एक कहता हैं मैने फ़लां फ़लां कारनामा अंजाम दिया| इब्लीस कहता हैं –
तूने कुछ भी नही किया| फ़िर दूसरा आता हैं वो कहता हैं –
मैं फ़लां-फ़लां मर्द और औरत के पीछे पड़ा रहा यहा तक के दोनो को एक दूसरे से अलग करके छोड़ा| इब्लीस उसे अपने पास तख्त पर बिठा लेता हैं और कहता हैं –
तूने बड़ा अच्छा काम किया|

(मुस्लिम)

इन इब्लीसी कारनामो के तहत कभी-कभी फ़ितने ऐसा सर उठाते हैं कि पीछा ही नही छूटता और इन्सान की सारी की सारी सूझ-बूझ और अकल्मन्दी धरी की धरी रह जाती हैं और कुछ समझ नही आता के क्या करे| प्यार मुहब्बत के नाज़ुक रिश्ते मे दरार आ जाती हैं और जज़्बात ज़ख्मी हो जाते हैं| ऐसे मुश्किल हालात मे भी इस्लाम हर हाल मे यही रास्ता दिखाता हैं के रिश्ता ऐसे मुश्किल वक्त मे भी किसी तरह बरकरार रहे| लिहाज़ा अगर किसी शौहर की बीवी अगर बदइख्लाक, बदतमीज़ और नाफ़रमान हैं तो शौहर को फ़ौरन ही तलाक का फ़ैसला नही करना चाहिये अगर उसमे नाकामी हो तो दूसरे मौके पर चेतावनी के साथ घर के अन्दर उसका बिस्तर अलग कर देना चाहिये अगर इस मे भी नाकामयाबी और बीवी अपना रवैया ना बदले तो उसे डांट-डपट कर हल्की मार मारने की इजाज़त भी दी गयी हैं|
क़ुरान –

जिन औरतो की नाफ़रमानी और बददिमागी का तुम्हे खौफ़ हो इन्हे नसीहत करो और इन्हे अलग बिस्तरो पर छोड़ दो और इन्हे मार की सज़ा दो और फ़िर अगर वो ताबेदारी करे तो इन पर कोई रास्ता तलाश न करो, बेशक अल्लाह ताला बड़ी बुलन्द और बड़ाई वाला हैं|

(सूरह निसा 4/34)

इसी तरह ज़्यादती और बदइख्लाकी शौहर की तरफ़ से हो तब भी बीवी को भी शौहर को मौका देना चाहिये न के फ़ौरन खुला का फ़ैसला करना चाहिये बल्कि सब्र और सूझ-बूझ के साथ शौहर की बेरुखी और बदइख्लाकी की वजह मालूम करने की कोशिश करनी चाहिये और उन वजहो को दूर कर शौहर का दिल जीतने की कोशीश करनी चाहिये| साथ ही अगर घर को बरबादी से बचाने के लिये अगर उसके हक मे कोई कमी हो तो उसे भूल कर हर हाल मे घर को बचाने की कोशीश करनी चाहिये और इसमे पीछे नही रहना चाहिये|
क़ुरान –

अगर किसी औरत को अपने शौहर की बददिमागी और बेपरवाही का खौफ़ हो तो दोनो आपस मे जो सुलह कर ले इस मे किसी पर कोई गुनाह नही|

(सूरह निसा 4/128)

अगर शौहर बीवी की सारी कोशीशे नाकाम हो जाये तो भी तलाक देने मे जल्दबाज़ी न कर एक और रास्ता इस्लाम ने बताया हैं के दोनो के खानदान से किसी एक समझदार और हकपरस्त को सर जोड़कर सुधार के मामले का रास्ता निकालना चाहिये|
क़ुरान –

अगर तुम्हे मियां बीवी के दरम्यान आपस की अनबन का खौफ़ हो तो एक मन्सफ़ मर्दवालो मे से और एक औरत के घरवालो मे से मुकरर्र करो, अगर ये दोनो सुलह करना चाहेगे तो अल्लाह दोनो मे मिलाप करा देगा, यकीनन अल्लाह ताला पूरे इल्म वाला पूरी खबर वाला हैं|

(सूरह निसा 4/35)

अगर ये कोशीश भी नाकाम साबित हो तो फ़िर इस्लाम इस चेतावानी के साथ दोनो को एक दूसरे से अलग हो जाने की इजाज़त देता हैं के
हज़रत सौबान रज़ि0 से रिवायत हैं कि –
नबी (ﷺ) ने फ़रमाया –

जिस औरत ने अपने पति से बिना वजह तलाक मांगी उस पर जन्नत की खुशबू हराम हैं| –(तिर्मिज़ी)

बिना वजह खुलाअ मांगने वाली औरते धोखेबाज़ हैं| –(तिर्मिज़ी)


हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ि0 से रिवायत हैं के
नबी (ﷺ) ने फ़रमाया –

अल्लाह के नज़दीक यह बहुत बड़ा गुनाह हैं कि एक आदमी किसी औरत से निकाह करले और फ़िर जब अपनी ज़रूरत पूरी कर ले तो तलाक दे दे और उसका मेहर भी अदा न करे|

(हाकिम)

हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 कहते हैं की –
नबी (ﷺ) ने फ़रमाया –

तीन चीज़ो मे सल्लल लाहो अलैहे वसल्लमजीदगी और हंसी मज़ाक मे की गयी बात वही हो जाती हैं| पहली चीज़ निकाह, दूसरी चीज़ तलाक और तीसरी चीज़ रुजु|

(तिर्मिज़ी)

हज़रत अबू हुरैरा रज़ि0 से रिवायत हैं के –
नबी (ﷺ) ने फ़रमाया –

जो किसी औरत को उसके शौहर के खिलाफ़ भड़काये या गुलाम को मालिक के खिलाफ़ बहकाये वो हममे से नही|

(अबू दाऊद)

तलाक किस हद तक नापसन्दीदा अमल हैं और इसकी कराहत ऊपर मौजूद हदीस नबवी से की जा सकती हैं| इस चेतावनी के बाद भी अगर दोनो एक दूसरे से अलग होना चाहते हैं तो शरिअत ने एक ऐसा बेहतर तरीका बताया की अलग होने के इस तरीके मे भी दोनो को मिलाने की आखिरी कोशिश करी हैं|


तलाक का मसनून तरीका

निकाह और तलाक के मसले जिन्हे कुरान मे हुदूदुल्लाह (अल्लाह की बनाई हुई हदे) कहा गया हैं| जैसा के –
अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया –

ऐ नबी जब तुम अपनी बीवियो को तलाक देना चाहो तो इन की इद्दत के दिनो मे इन्हे तलाक दो और इद्दत का हिसाब रखो, और अल्लाह से जो तुम्हारा रब हैं डरते रहो, न तुम इन्हे घर से निकालो और न खुद वो निकले हा ये और बात हैं के वो खुली बुराई कर बैठे, ये अल्लाह की मुकरर्र करी हदे हैं, जो शख्स अल्लाह की हदो से आगे बढ़ जाये इसने यकीनन अपने ऊपर ज़ुल्म किया, तुम नही जानते शायद इसके बाद अल्लाह कोई नयी बात पैदा कर दे|

(सूरह तलाक 65/1)

बहुत से लोग कुरान की इस आयत से और इसके अलावा और बहुत सी आयत जो खुसुसन तलाक के ताल्लुक से हैं वाकीफ़ नही हैं और उस वक्त तक नावाकिफ़ हैं जब तक उन्हे जानने की ज़रूरत मजबूरी न बन जाये, तलाक की नौबत तो हमेशा लड़ाई-झगड़े के बाद ही पेश आती हैं| जो दिन रात का चैन और सुकून खत्म कर देते हैं लेकिन तलाक के मसले से नावाकफ़ियत उन परेशानी मे इज़ाफ़ा की वजह बनती हैं|


तलाक के अहम मसले

1.हैज़ के दौरान तलाक ना देना –

औरत को हैज़ (मासिक धर्म) के दौरान तलाक देना मना हैं अगर बीवी से हैज़ के दौरान झगड़ा हुआ हो तो भी मर्द अगर तलाक देना चाहे तब भी हैज़ खत्म होने तक इन्तज़ार करना चाहिये|

(इब्ने माजा)

2. जिस पाकी की हालत मे तलाक देना हो उस पाकी की हालत मे हमबिस्तरी करना मना हैं|

याद रहे हैज़ के दिनो के अलावा बाकी दिनो मे जिन मे औरत नमाज़ अदा करती हैं उन दिनो को पाकी के दिन कहा जाता हैं|

(इब्ने माजा)

3. एक वक्त मे केवल एक ही तलाक देनी चाहिये एक साथ तीन तलाके देना बहुत बड़ा गुनाह हैं| बीवी को अलग करने के लिये तलाको की ज़्यादा से ज़्यादा तादाद तीन हैं लेकिन एक तलाक से अलग करना ही शरीअत का बनाया गया तरीका हैं|
क़ुरान –

ये तलाक दो मरतबा हैं फ़िर या तो अच्छाई से रोकना या उमदगी के साथ छोड़ देना|

(सूरह अल बकरा 2/229)

हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ि0 फ़रमाते हैं कि –

सुन्नत तलाक यह हैं के शौहर अपनी बीवी को हर पाकी मे केवल एक तलाक दे जब औरत तीसरी बार पाकी हासिल करे तो उसे तलाक दे उसके बाद जो हैज़ आयेगा उस पर इद्दत खत्म हो जायेगी|

(इब्ने माजा)

4. पहली तलाक हो या दूसरी या तीसरी हर तलाक के बाद औरत को तीन हैज़ या तीन पाकी(जो लगभग 3 माह बनती हैं) इन्तज़ार करना हुक्म हैं इस मुद्दत को इद्दत कहते हैं|
क़ुरान –

और तलाक दी हुई औरते अपने आप को तीन हैज़(तीन माह) तक रोके रखे और अगर वे अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान रखती हैं|

(सूरह अल बकरा 2/228)

तुम्हारी औरतो मे से जो औरते हैज़ से नाउम्मीद हो चुकी हो गयी हो, अगर तुम्हे शुबहा हो तो इन की इद्दत तीन महीने हैं और इन की भी जिन्हे हैज़ आना शुरु ही न हुआ हो और हामला औरतो कि इद्दत इन का हमल हैं|

(सूरह तलाक 65/4)

5. पहली और दूसरी तलाक के बाद दौराने इद्दत बीवी से सुलह करने को शरिअत मे पलट जाना कहते हैं और ऐसी तलाक को तलाक रज़ई कहते हैं| पलटने के लिये बीवी से हमबिस्तर होना शर्त नही ज़ुबानी बातचीत ही काफ़ी हैं|
क़ुरान –

और जब तुम अपनी औरतो को तलाक दो और वो अपनी इद्दत पूरी कर ले तो इन्हे अपने खाविन्दो से निकाह करने से न रोको जब के वो आपस मे दस्तूर के मुताबिक रज़ामन्द हैं|

(सूरह अल बकरा 2/232)

6. पहली और दूसरी तलाक के बाद तीन महीने इद्दत गुज़ारने मकसद यह हैं के अगर शौहर इस मुद्दत मे तलाक का फ़ैसला बदलना चाहे तो उसे तीन महीनो मे किसी भी वक्त रुजु(सुलह) कर सकता हैं| इसीलिये पहली दो तलाको को रजई तलाक कहा जाता हैं| तीसरी तलाक के बाद शौहर को रुजु का हक नही रहता बल्कि तलाक देते ही अलेहदगी हो जाती हैं लिहाज़ा तीसरी तलाक को तलाके बाइन(अलग करने वाली) कहा जाता हैं| तीसरी तलाक के बाद इद्दत का मकसद पहले शौहर से ताल्लुकातो की इज़्ज़त मे तीन महीने तक दूसरे से निकाह से रुके रहना|
क़ुरान –

ये तलाक दो मरतबा हैं फ़िर या तो अच्छाई से रोकना या उमदगी के साथ छोड़ देना|

(सूरह अल बकरा 2/229)

7. पहली दो तलाको के बाद दौराने इद्दत रूजु करने के लिये औरत की रज़ामन्दी ज़रूरी नही औरत चाहे या न चाहे मर्द रुजु कर सकता हैं|
8. रजई तलाक की इद्दत के दौरान बीवी को पहले की तरह अपने साथ घर मे ही रखना चाहिये और उसकी ज़रूरते पूरी करते रहना चाहिये|
9. लगातार तीन तलाके यानि हर माह एक तलाक देना गैर मसनून हैं| लिहाज़ा तलाक से अलग-अलग अलेहदगी की सूरते नीचे देखे-

एक तलाक से अलेहदगी

एक तलाक से अलेहदगी की सूरत यह हैं की शौहर बीवी के बीच निकाह के बाद पहली बार मतभेद एस हद तक बढ़ जाये के नौबत तलाक तक पहुंच जाये और शौहर बीवी को हैज़ आने के बाद पाकी के दौरान बिना हमबिस्तर हुये पहली तलाक दे दे और दौराने इद्दत (यानि तीन महीने) रुजु न करे तो इस इद्दत के खत्म होते ही शौहर बीवी मे हमेशा के लिये अलेहदगी हो जायेगी| इस सूरत मे दूसरी और तीसरी तलाक की ज़रूरत नही रहती| दौराने इद्दत बीवी को अपने साथ घर मे रखना और उसका ज़रूरतो को पहले की तरह पूरी करना ज़रूरी हैं| एक तलाक से अलेहदगी से ये फ़ायदा हैं के दोनो अगर आगे कभी निकाह करना चाहे तो निकाह कर सकते है या औरत किसी और से निकाह करना चाहे तो कर सकती है|
क़ुरान –

और जब तुम अपनी औरतो को तलाक दो और वो अपनी इद्दत पूरी कर ले तो इन्हे अपने खाविन्दो से निकाह करने से न रोको जब के वो आपस मे दस्तूर के मुताबिक रज़ामन्द हैं|

(सूरह अल बकरा 2/232)

हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर रज़ि0 से रिवायत हैं के उन्होने नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम के दौर मे अपनी बीवी को हालते हैज़ मे तलाक दे दी तो हज़रत उमर रज़ि0 ने इस बारे मे नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम से मालूम किया तो
आप (ﷺ) ने फ़रमाया –

अब्दुल्लाह को हुक्म दो कि वह अपनी बीवी से रुजु करे| फ़िर उसे छोड़ दे यहां तक के वह हैज़ से पाक हो जाये फ़िर हैज़ आये और फ़िर पाक हो जाये फ़िर हमबिस्तर हुये बिना चाहे तो रोके रखे चाहे तो तलाक दे और यह वो इद्दत हैं जिसके हिसाब से अल्लाह ताला ने औरतो को तलाक देने का हुक्म दिया हैं|

(मुस्लिम)

दो तलाको से अलेहदगी

पहली तलाक –पहली तलाक देने के बाद इद्दत(यानि तीन माह) के अन्दर अगर शौहर बीवी रुजु करना कर ले| रुजु करने का ये मतलब नही की पहली तलाक बेकार हो जायेगी या आगे उसे कभी गिनती मे नही लिया जायेगा बल्कि आगे जब भी शौहर तलाक देगा तो वह दूसरी तलाक मानी जायेगी|
दूसरी तलाक –पहली तलाक से रुजु के बाद दुबारा कभी भी(जैसे कुछ दिन, हफ़्ते, महीने, साल) अगर फ़िर कोई झगड़ा हो जाये और नौबत तलाक तक पहुंच जाये तो शौहर कायदे के मुताबिक हैज़ खत्म होने के बाद बिना हमबिस्तर हुये दूसरी तलाक दे दे| इस दूसरी तलाक के बाद भी शरिअत ने मर्द को दौराने इद्दत(तीन माह के अन्दर) रुजु का हक दिया हैं इसलिये उस दूसरी तलाक को भी रजई तलाक कहा ही कहा जाता हैं| अगर रुजु न करे तो इद्दत के बाद दोनो मे अलेहदगी हो जायेगी| इस दूसरी रजई तलाक का ये फ़ायदा हैं के दोनो अगर आगे कभी निकाह करना चाहे तो निकाह कर सकते है या औरत किसी और से निकाह करना चाहे तो कर सकती है|
क़ुरान –

ये तलाक दो मरतबा हैं फ़िर या तो अच्छाई से रोकना या उमदगी के साथ छोड़ देना|

(सूरह अल बकरा 2/229)

तीन तलाको से अलेहदगी की जायज़ सूरतेहाल

पहली तलाक के बाद इद्दत के अन्दर अगर शौहर रुजु कर ले या इद्दत के बाद निकाह कर ले| फ़िर दूसरी तलाक के बाद इद्दत के अन्दर शौहर रुज कर ले या इद्दत के बाद निकाह कर ले और दोनो साथ मे रहते हो फ़िर अगर कुछ वक्त के बाद दोनो मे फ़िर से झगड़ा होता है तो शौहर पाकी के दिनो मे बिना हमबिस्तर हुये तीसरी तलाक दे सकता हैं और ये तीसरी तलाक देते ही दोनो मे हमेशा के लिये अलेहदगी हो जायेगी| जिस तरह पहली और दूसरी तलाक के बाद रुजू करके दुबारा साथ रहने की इजाज़त हैं तीसरी तलाक मे ऐसा नही हैं इसीलिये इसे तलाक को बाइन(मुस्तकिल अलग करने वाली) कहा जाता हैं| तीसरी तलाक के बाद औरत को इद्दत गुज़ारने का हुक्म हैं और इद्दत खत्म होने के बाद वो आज़ादी से कही भी निकाह कर सकती हैं| ये बात ध्यान रहे के तीसरी तलाक के बाद शौहर बीवी निकाह करना चाहे तो भी नही कर सकते जब तक औरत किसी और से निकाह न कर ले और ज़िन्दगी भर साथ निभाने की नियत से दूसरे शौहर के साथ न रहे और फ़िर कभी अगर उसका दूसरा शौहर मर जाये या किसी मामले के तहत उससे तलाक हो जाये या शौहर अपनी मर्ज़ी से उसे तलाक दे दे तो इसी तरह तलाक ले कर वो इद्दत गुज़ार कर अपने पहले वाले शौहर से निकाह कर सकती हैं|

खुलअ

जिस तरह शरिअत ने मर्द को हालत के मद्देनज़र तलाक का हक दिया हैं उसी तरह औरत को भी हालत के मद्देनज़र मर्द से छुटकार हासिल करने के लिये खुलअ का हक दिया हैं| खुलअ देने के लिये शरिअत ने शौहर को बीवी से कुछ रकम लेने की इजाज़त भी दी हैं जो कि कम व ज़्यादा औरत के हक मे मेहर के बराबर होना चाहिये|
क़ुरान –

ये तलाक दो मरतबा हैं फ़िर या तो अच्छाई से रोकना या उमदगी के साथ छोड़ देना हैं और तुम्हे हलाल नही के तुम ने इन्हे जो दे दिया हैं इसमे से कुछ भी लो, हां ये और बात हैं के दोनो को अल्लाह कि हदे कायम न रख सकने का खौफ़ हो, इसलिये अगर तुम्हे दर हो के ये दोनो अलaलह के हदे काaय्म न रख सकेगे तो औरत रिहाई पाने के लिये कुछ दे डाले, इस मे दोनो पर कुछ गुनाह नही, य अल्लाह कि हदे हैं खबरदार इन से आगे न बढ़ना और जो लोग अल्लाह कि हदो से तजाविज़ कर जाये वो ज़ालिम हैं|

(सूरह अल बकरा 2/229)

हज़रत साबित बिन कैस रज़ि0 की बीवी नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम की खिदमत मे हाज़िर हुई और कहा –

ऐ अल्लाह के रसूल सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम! मैं सबित बिन कैस की दीनदारी और इखलाक पर बोहतान नही लगाती लेकिन मुझे नाशुक्री के गुनाह का शिकार होना पसन्द नही लिहाज़ा मुझे खुलअ दिला दीजिये|
नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने उससे मालूम किया –
क्या तुम साबित का हक मेहर मे दिया हुआ बाग वापस करने को तैयार हो?
औरत ने अर्ज़ किया – हां ऐ अल्लाह के रसूल (ﷺ)
लिहाज़ा नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने हज़रत साबित बिन कैस रज़ि0 को हुक्म दिया कि अपना बाग वापस ले लो और उसे आज़ाद कर दो|

(बुखारी)

इस हदीस की रोशनी मे ये बात भी मालूम होती हैं के अगर शौहर बीवी आपसी रज़ामन्दी के तहत खुलअ का मामला तय न कर सके तो बीवी कू पूरा हक हासिल हैं के वो शरई अदालत का रुख करे ताकि उसकी सुनवाई हो सके| और साथ ही शरई अद्दलत को ये हक हासिल हैं वो औरत को मर्द से खुलअ दिलाकर आज़ाद करे| यह बात ध्यान रहे के शरई मामले मे अगर जज या फ़िर अदालत मौजूद न हो तो उलमा की जमात या आम मुत्तकी परहेज़गार मुसलमानो की पंचायत फ़ैसला कर दे तो ये बिल्कुल जायज़ हैं लेकिन अगर आगे किसी परेशानी के अन्देशे के तहत महफ़ूज़ रहने के लिये गैर मुस्लिम अदालत से लिखित मे ये काम करने मे कोई हर्ज़ नही| खुलअ की इद्दत एक महीना हैं उसके बाद औरत जहां चाहे दूसरा निकाह कर सकती हैं|

हज़रत रबीअ बिन्ते मुअव्विज़ बिन अफ़रा रज़ि0 से रिवायत हैं की उन्होने नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम के ज़माने मे अपने शौहर से खुलअ लिया तो नबी ने उन्हे हुक्म दिया कि वह एक हैज़ की इद्दत गुज़ारे|

(तिर्मिज़ी)

एक साथ तीन तलाके

निकाह वाले हर सूरते हाल मे एक दूसरे का साथ निभाने की कोशीश करते हैं| शौहर बीवी मे आपसी इख्तलाफ़ रोज़मर्रा की बात हैं जिसे एक समझदार शौहर और एक समझदार बीवी अपनी पूरी कोशीश करते हैं के मामला बना रहे| लेकिन जब मामला बढ़ते-बढ़ते तलाक तक पहुंच जाता हैं तो तलाक के मामले मे सोच-विचार, सल्लल लाहो अलैहे वसल्लमजीदगी, बर्दाश्त से काम लेने वाले मर्द और औरते होते हैं और खास तौर से शरई हुक्मो को जानने वाले तो बहुत ही कम लोग होते हैं ऐसी सूरते हाल मे अकसर लोग गुस्से मे आकर एक साथ तीन तलाक दे देते हैं के फ़ौरन रोज़ रोज़ के लड़ाई झगड़ो से छटकारा मिले और शरई मामले की नावाकफ़ियत के तहत एक ही बार मे तीन तलाक(या उससे भी ज़्यादा) तलाक के लफ़्ज़ को कह देते हैं| जो न सिर्फ़ शरिअत के खिलाफ़ हैं बल्कि बहुत बड़ा गुनाह भी हैं| नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम की ज़िन्दगी मे एक बार किसी श्ख्स ने अपनी बीवी को एक साथ तीन तलाके दे दी| जब आपको इस बारे मे पता चला तो आप (ﷺ) गुस्से के मारे उठ खड़े हुये और –
आप ने फ़रमाया –

मेरी मौजूदगी मे अल्लाह की किताब से यह मज़ाक| एक शख्स ने अर्ज़ किया – या रसूलुल्लाह सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम! क्या मैं उसे कत्ल कर दूं|

(निसाई)

तीन तलाके एक साथ देना कितना बड़ा गुनाह हैं उसकी वजह यह हैं के शरिअत ने खानदान को तबाही से बचाने के लिये जिस ज़रूरत और हिकमत को अमल मे लाना चाहती हैं तीन तलाक देने वाला शख्स न सिर्फ़ कानूने इलाही की नाफ़रमानी करता हैं बल्कि उन हिकमतो को भी पामाल कर देता हैं साथ ही ये सरासर नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम की खुली हुई नाफ़रमानी हैं| बावजूद इसके नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने इस तरह तीन तलाक एक साथ देने वाले के तलाक को सिर्फ़ एक ही माना हैं तीन नही|
हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ि0 से रिवायत हैं के नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम के ज़माने मे उसके बाद हज़रत अबू बक्र रज़ि0 की खिलाफ़त मे हज़रत उमर रज़ि0 की खिलाफ़त मे दो साल तक एक बार मे दी गयी तीन तलाक एक ही मानी जाती थी|
हज़रत उमर रज़ि0 ने कहा –

जिस चीज़ मे लोगो को मोहलत दी गयी थी लोगो ने उस बारे मे जल्दबाज़ी से काम लेना शुरु कर दिया हैं लिहाज़ा आइन्दा हम एक साथ दी गयी तीन तलाको को तीन ही लागू कर देंगे| लिहाज़ा हज़रत उमर रज़ि0 ने अपना फ़ैसला लागू कर दिया|

(मुस्लिम)

नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम की सुन्नत और दोनो खलीफ़ा के अमल से ये तीन बाते साफ़ ज़ाहिर हैं के
1. एक साथ तीन तलाके देना शरियत इसलाम मे बहुत बड़ा गुनाह हैं,
2. एक बार मे तीन तलाके देने वाले को गुनाहगार ठहराने के बावजूद शरिअत ने उसे तलाक के और दो मौको से महरूम नही किया और तीन तलाक को एक तलाक ही मानती हैं|
3. हज़रत उमर रज़ि0 ने लोगो को एक बार मे तीन तलाक देने से रोकने के लिये सज़ा के तौर पर तीन तलाक को तीन तलाक ही लागू कर दिया था लेकिन ये शरियत का मुस्तकिल कानून नही था| ये ठीक उसी तरह हैं के 5 वक्त की नमाज़ो को अगर किसी एक वक्त मे एक साथ पढ़ लिया जाये तो जिस वक्त मे नमाज़ पढ़ी जायेगी उस वक्त की नमाज़ तो हो जायेगी लेकिन दूसरे वक्तो की नमाज़ न मानी जायेगी क्योकि उनके अदा करने का वक्त बिल्कुल अलग हैं लिहाज़ा कोई इन्सान 5 वक्त की नमाज़ को किसी एक वक्त मे नही पढ़ सकता| ठीक यही मसला एक साथ तीन तलाक देने का हैं के अगर किसी ने एक साथ तीन तलाक दे दी पहली तलाक तो मान ली जायेगी लेकिन बाकि तो और तलाको के लिये इद्दत का वक्त गुज़ारना ज़रूरी हैं जैसा के
अल्लाह ने कुरान मे फ़रमाया –

और तलाक दी हुई औरते अपने आप को तीन हैज़(तीन माह) तक रोके रखे और अगर वे अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान रखती हैं तो उनके लिये जायज़ नही कि वे उस चीज़ को छुपाये जो अल्लाह ने पैदा किया उनके पेट मे| और इस दौरान मे उनके शौहर उन्हे फ़िर लौटा लेने का हक रखते हैं अगर वो सुलह करना चाहे| और इन औरतो के लिये दस्तूर के मुताबिक उसी तरह हुकूक है जिस तरह दस्तूर के मुताबिक उन पर ज़िम्मेदारिया हैं| और मर्दो का उनके मुकाबले मे कुछ दर्जा बढ़ा हुआ हैं| और अल्लाह ज़बरदस्त हैं तदबीर वाला हैं|

(सूरह अल बकरा 2/228)

और जब तुम औरतो को तलाक दे दो और वे अपनी इद्दत तक पहुंच जाये तो उन्हे या तो कायदे के मुताबिक रख लो या कायदे मुताबिक रुखसत कर दो|

(सूरह अल बकरा 2/230)

कुछ उल्मा के नज़दीक एक वक्त मे दी गयी तलाके तीन ही शुमार होगी| लेकिन नीचे दी गयी दलीले इस बात का खंडन करती हैं-
1. नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने अपनी ज़िन्दगी मे तीन तलाको को एक ही तलाक बताया| नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम के मुकाबले मे हज़रत उमर रज़ि0 का इज्तिहाद दलील नही बन सकता|
अल्लाह कुरान मे फ़रमाता हैं –

ऐ लोगो जो ईमान लाये हो! अल्लाह और उसके रसूल से आगे न बढ़ो|

(सूरह हुजरात 49/1)

2. इमाम मुस्लिम की रिवायत की गयी हदीस मे हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ि0 के कौल के मुताबिक अहदे सिद्दीकी रज़ि0 और अहदे फ़ारूकी रज़ि0 के शुरु के दो साल का अर्सा इस मसले पर सहाबा रज़ि0 के इज्माअ की हैसियत रखता हैं|
3. हज़रत उमर रज़ि0 के इज्तिहाद के बाद एक वक्त मे दी गयी तीन तलाक को तीन शुमार करने पर कभी भी उम्मत की रज़ामन्दी नही रही| सहाबा रज़ि0, ताबाईन और इमामो मे भी इस मसले मे नाइत्तेफ़ाकी रही हैं और सात इस्लामी मुल्क जार्डन, मोरक्को, मिस्र, इराक, सीरिया, पाकिस्तान और सूडान मे एक मजलिस की तीन तलाको को एक ही तलाक मानने का कानून हैं|
4. कुछ उल्मा इमाम मुस्लिम की रिवायत की गयी हदीस की यह तावील पेश करते हैं “शुरुआती दौर मे लोगो मे ईमानदारी करीब-करीब नही थी इसलिये तीन तलाक देने वाले के इस ब्यान को तस्लीम कर लिया जाता कि उसकी नियत एक ही तलाक की थी और बाकि दो सिर्फ़ ताकीद के तौर पर थी लेकिन हज़रत उमर ने महसूस किया कि अब लोग जल्दी मे तलाक देकर बहाना करते हैं तो आपने बहाना कबूल लरने से इन्कार कर दिया|
ये ताविल निहायत ही खतरनाक हैं के सिर्फ़ फ़िकही मसले को तरजीह देने के लिये ये तस्लीम कर लेना के अहदे फ़ारूकी की शुरुआत मे सहाबा रज़ि0 के अन्दर सच्चाई और ईमानदारी खत्म हो गयी थी या होने लगी थी बहुत से दूसरे फ़ित्नो का दरवाज़ा खोल देती हैं लिहाज़ा किसी चीज़ की ताविल के लिये सबसे पहले ये ताविल देने वाले ये सोच ले के वो किस पर बेईमानी का इल्ज़ाम लगा रहे हैं और इस बेईमानी से बेहतर हज़रत अब्दुल्लाह बिन अब्बास रज़ि0 की हदीस को ठीक वैसे ही तस्लीम कर लेना फ़ितने का शिकार होने से बेहतर हैं|
5. इस हदीस मे हज़रत उमर रज़ि0 ने एक बार मे तीन तलाक को तीन लागू करने का मकसद लोगो लोगो की जल्दबाज़ी बताया गया हैं जोकि हालात के मद्देनज़र था लिहाज़ा हज़रत उमर के इस जवाज़ को छोड़कर अपनी तरफ़ से जवाज़ गढ़ लेना और उसे हज़रत उमर रज़ि0 की तरफ़ मन्सूब करना ईमानदारी के खिलाफ़ हैं|
6. तीन तलाक को तीन तलाके तकसीम करने के बाद उसके जो खराब नतीजे निकलते हैं वह खुद इस बात के खुला सबूत हैं के एक वक्त मे दी गयी तीन तलाको को लागू करना खुद एक सज़ा तो हो सकता हैं लेकिन मुस्तकील हमेशा का कानून नही हो सकता हैं क्योकि पहले तो तलाक देने वाला उस मोहलत से महरूम हो जाता हैं जो अल्लाह ने औरतो की इद्दत के तौर पर उसे बख्शी हैं जिसमे वो सोच-समझ कर अपना इरादा बदल रुजु कर ले दूसरे तलाक के बाद पछतावे की सूरत मे वापसी की कोई गुन्जाइश नही जिसके लिये हलाले जैसे अमल से औरत को गुज़ारा जाता हैं और उसके इस हलाले की बदकारी के लिये तैयार करते हैं जो दीन ए इस्लाम से मेल नही खाते|
लिहाज़ा इन दलीलो की रोशनी मे पढ़ने वाले खुद फ़ैसला करे के एक साथ तलाक देना कैसा हैं क्या हकीकतन इस्लाम मे ऐसा हो सकता हैं?
आप खुद जवाब दे|
यहा एक बात और ध्यान रहे के जो लोग हज़रत उमर रज़ि0 से ये दलील पकड़ते हैं उनको ये समझना चाहिये के यहा मसला तलाक का नही बल्कि हज़रत उमर ने इस कानून को बतौर एक सज़ा के तौर पर लागू किया था ताकि लोग तलाक का जो तरीका अल्लाह और उसके रसूल ने बताया हैं उस पर वापस पलट आये| लिहाज़ा जो उल्मा उमर रज़ि0 की बात को दलील बनाते हैं उन्हे चाहिये के आज भि जो लोग ऐसा करते हैं उनके लिये मुनासिब सज़ा लागू करे ताकि लोग फ़िर से ऐसा घिनौना काम जिस पर नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने सख्त नारज़गी जताई हैं न करे|

हलाला

कुरान मे अल्लाह ने साफ़ लफ़्ज़ो मे फ़रमाया-

फ़िर अगर इस को तलाक दे दे तो अब इस के लिये हलाल नही जब तक के वो औरत इस के सिवा दूसरे से निकाह न करे, फ़िर अगर वो भी तलाक दे दे तो इन दोनो को मेल जोल कर लेने मे कोई गुनाह नही बशर्ते के ये जान ले के अल्लाह की हदो को कायम रक सकेंगे, ये अल्लाह ताला की हदे हैं जिन्हे वो जानने वालो के लिये ब्यान करता हैं|

(सूरह अल बकरा 2/230)

कुरान की इस आयत से साफ़ वाज़े हैं के तलाक के बाद जब औरत दूसरे से निकाह करे और उसका शौहर उसे अपनी आज़ाद मर्ज़ी से तलाक दे दे(या मर जाये) तो इद्दत गुज़रने के बाद वो औरत अपने पहले शौहर से निकाह कर सकती हैं जो एक जायज़ और शरयी तरीका हैं लेकीन इस आयत की रोशनी मे कुछ जाहिल किस्म के उल्मा ने तलाकशुदा(चाहे उसके शौहर ने उसे एक बार मे तीन तलाक दी हो या ना दी हो) को अपने पहले शौहर के निकाह मे आने के लिये ये हीला निकाला के ये तलाकशुदा औरत किसी से वक्ति निकाह करके एक दो दिन के बाद तलाक लेकर अपने पहले शौहर के लिए हलाल हो जायेगी|

औरत के अपने पहले शौहर के लिये हलाल करने के काम को हलाला कहते हैं और इस काम को करने वाले को मुहल्लिल कहा जाता हैं| कुरान मजीद के हुक्म से हलाले का फ़र्क नीचे आसानी से समझा जा सकता हैं-
शरयी हुक्म निकाह मसनून निकाह हलाला
नियत ज़िन्दगी भर साथ – निभाने की एक या दो रातो के बाद तलाक की
मकसद औलाद का हासिल करना दूसरे मर्द के लिये औरत को हलाल करना
औरत की मर्ज़ी ज़रूरी हैं मर्ज़ी नही जानी जाती
कफ़ू दीनदारी, हस्ब, नस्ब, दौलत,हुस्न, जमाल सब देखा जाता हैं कोई चीज़ नही देखी जाती
मेहर अदा करना फ़र्ज़ हैं न तय किया जाता हैं न अदा
ऐलान और प्रचार ऐलान और प्रचार करना मसनून हैं खुफ़िया रखा जाता हैं
रुखसती इज़्ज़त और वकार के साथ सुसराल आती हैं खुद चलकर मुहल्लिल के पास जाती हैं
दूल्हा दुल्हन के जज़्बात मुहब्बत और खुशी होति हैं नफ़रत और शर्मिन्दगी
रिश्तेदारो की दुआ मुहब्बत और खुशी से दुआ देते हैं हर तरफ़ लानत और मलालत की जाती हैं
दुल्हत का बनाव श्रंगार सहेलिया खुशी खुशी करती हैं दुल्हन बनने का तसव्वुर ही नही होता
सुहागरात का इन्तेज़ाम सुसराल वाले खुशी खुशी करते हैं सुसराल का वजूद ही नही होता
शौहर की तरफ़ से हदिया शौहर खुशी खुशी देता हैं फ़ूटी कौड़ी भी नही मिलती
जिम्मेदारी शौहर के ज़िम्मे हमेशा के लिये मुहल्लिल कीमत वसूलता हैं

मसनून निकाह और हलाले मे साफ़ फ़र्क ज़ाहिर हैं| निकाह सुन्नत की पैरवी हैं जबकि हलाला सुन्नत के खिलाफ़ हैं, निकाह सरासर रहमत हैं जबकि हलाला सरासर लानत और मलामत हैं, निकाह सरासर इज़्ज़त और असमत की ज़मानत हैं जबकि हलाला सरासर ज़िना और बदकारी हैं, इसीलिये नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम का हलाला करने वाले को किराये का सांड कहा हैं| (इब्ने माजा) एक दूसरी हदीस मे हैं के हलाला करने वाले और कराने वाले दोनो पर लानत हैं

(तिर्मिज़ी)

जो लोग हलाले को जायज़ करार देते हैं उनसे ये पूछो के अगर हलाला जायज़ हैं तो शियो मे मुताह क्यो हराम हैं जबकि दोनो ही आरज़ी होते हैं एक खास वक्त के लिये और दोनो मे कुछ न कुछ तय करार पाया जाता हैं| ज़ाहिर सी बात हैं शराब को दूध का नाम देने से दूध शराब नही हो जाती न ही हलाल हो जाती हैं| हज़रत उमर रज़ि0 के दौरे खिलाफ़त मे लोगो ने एक बार मे तीन तलाक देने के जुर्म से रोकने के लिये न केवल एक बार मे तीन तलाको को तीन ही शुमार करने का कानून बना दिया था बल्कि इसके साथ हलाला करने और करवाने वाले को संगसार की सज़ा का कानून भी बना दिया था| इन दोनो कानूनो का एक वक्त मे लागू होना लोगो को सिर्फ़ जल्दबाज़ी से तोकने का इलाज था न के कयमत तक के लिये इसे नाफ़िस किया था| तिन तलाक देने वाले पहले तो अपनी जल्दबाज़ी की वजह से ज़िन्दगी भर अपनी नदामत पर आंसू बहाता रहता और दूसरी तरफ़ हलाला जैसे घिनौने काम के तसव्वुर से ही उसके रोंगटे खड़े हो जाते बल्कि हालात के मद्देनज़र तीन तलाक के घिनौने जुर्म को रोकने के लिये इससे बेहतर कोई सज़ा भी न थी|

सबसे ज़्यादा हैरत की बात तो ये हैं के जो सीना ठोक के तीन तलाक को एक ही वक्त मे जायज़ करार देते हैं लेकिन हलाले करने वाले को संगसार की सज़ा को छुपाते हैं बल्कि लोगो को हलाला करने की राह दिखाते हैं| हलाले का सबसे अफ़सोस और बेइज़्ज़ती का पहलू तो ये हैं के गुनाह मर्द करता हैं और सज़ा औरत भुगतती हैं| करता कोई हैं भरता कोई का अन्धा कानून इस्लाम के बुनयादी उसूलो के खिलाफ़ हैं| दूसरे मर्द के इस जुर्म की सज़ा औरत को भुगतनी पड़ती हैं और सज़ा भी ऐसी के कोई गैरतमंद मर्द या औरत इसे बर्दाश्त ना कर सके| क्या इस बेगैरती का हुक्म अल्लाह ने दिया जो सबसे ज़्यादा गैरतमंद हैं या इसका हुक्म नबी सल्लल लाहो अलैहे वसल्लम ने दिया जो अल्लाह की इस कायनात मे सबसे बढ़कर गैरतमंद हैं?

क़ुरान –

कहो! अल्लाह बेहयाई का हुक्म कभी नही देता क्या तुम अल्लाह का नाम लेकर वह बाते कहते हो जिन के बारे मे तुम्हे पता नही|

(सूरह आराफ़ 7/28)

Source: Islam-the truth Courtesy : www.ieroworld.net
www.taqwaislamicschool.com
Taqwa Islamic School
Islamic Educational & Research Organization ( IERO )

QURAN VERSES BY VERSES AUDIO

QURAN
VERSES BY VERSES

Welcome to HADITH QUOTE, your source for high quality recitations of the Quran. All the Quran recitations on this site are in good quality and are free for download as mp3s & oggs. Please enjoy your stay, contact us with your suggestions, tell your friends about the site, and don't forget us in your prayers!

Abdul Basit Abdul Samad
Mujawwad : (♫ mp3 ) | (♬ ogg )
Murattal : (♫ mp3 ) | (♬ ogg )

Mishary Rashid Alafasy
(♫ mp3 ) | (♬ ogg )

Mahmoud Khalil Al-Hussary
Mujawwad : (♬ ogg )
Murattal : (♬ ogg )

Mohamed Siddiq El-Minshawi
Mujawwad : (♬ ogg )
Murattal : (♬ ogg )

Mahmood Al Rifai
(♬ ogg )

Abu Bakr Al Shatri
(♬ ogg )

Saud Al-Shuraim
(♬ ogg )

Abdul Rahman Al Sudais
(♬ ogg )